मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने गढ़िया महोत्सव का किया शुभारंभ : महु सुपोषित, मोर कांकेर सुपोषित विषय पर बनाई गई रंगोली और सेल्फी जोन बना लोगों के आकर्षण का केन्द्र

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज कांकेर में गढ़िया महोत्सव का शुभारंभ किया। इस अवसर पर उन्होंने यहां 14 करोड़ 47 लाख रूपये के विभिन्न विकास कार्यों का भूमिपूजन एवं लोकार्पण किया। इनमें 13 करोड़ 26 लाख रूपये के 83 कार्यों का भूमिपूजन तथा एक करोड़ 21 लाख रूपये का एक लोकार्पण कार्य शामिल हैं।

संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा कि देशभर में मंदी का दौर चल रहा है, पर छत्तीसगढ़ में मंदी का कोई प्रभाव नहीं है। इसका प्रमुख कारण राज्य शासन द्वारा किसानों का कर्ज माफ, 25 सौ रूपये प्रति क्ंिवटल में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी, तेंदूपत्ता का पारिश्रमिक दर बढ़ाना, सिंचाई कर माफ करना तथा बिजली बिल में छूट मिलनेे से किसानों की आर्थिक स्थिति मजबूत हुई है। उन्होंने कहा कि सरकार की योजनाओं से लोगों का खेती किसानी के प्रति रूझान बढ़ा है। कांकेर जिले में सहकारी केन्द्रीय बैंक के माध्यम से 33 हजार 901 किसानों के 103 करोड़ 34 लाख रूपये तथा कालातीत 22 हजार 781 किसानों के 80 करोड़ 65 लाख रूपये, इस प्रकार जिले में कुल 56 हजार 682 किसानों का 184 करोड़ रूपये का ऋण माफ किया गया है। जिले में 43 हजार 779 किसानों को 135 करोड़ 53 लाख रूपये का कृषि ऋण वितरण किया गया है, जो पिछले वर्ष की तुलना में 10 हजार 757 किसान अधिक हैं। नरवा, गरूवा, घुरूवा और बाड़ी योजना में जिले में 83 गौठानों का निर्माण किया गया है। जलसंरक्षण के लिए सभी विकासखण्डों में नरवा का कार्ययोजना तैयार कर लिया गया है, जिसमें वर्षा ऋतु के बाद कार्य प्रारंभ किया जाएगा। कुपोषण से मुक्ति के लिए सुपोषण अभियान चलाया जा रहा है, जिसमें कुपोषित बच्चों एवं एनीमिया से पीड़ित महिलाओं को पौष्टिक गर्म भोजन प्रदाय किया जा रहा है। हाट-बाजारों मेें स्वास्थ्य शिविर लगाकर मरीजों का उपचार किया जा रहा है, अब तक 23 हजार से अधिक मरीजों इससे लाभान्वित हुए है। कांकेर जिले में अब तक 23 हजार 969 हितग्राहियों को व्यक्तिगत वन अधिकार मान्यता पत्र दिया जा चुका है, जिसका क्षेत्रफल 71 हजार 256 एकड़ है। इसी प्रकार एक हजार 161 सामुदायिक वन अधिकार मान्यता पत्र तथा 20 गांवों में 45 हजार 623 एकड़ वन भूमि का सामुदायिक वन संसाधन का हक दिया गया है। जाति प्रमाण पत्र जारी करने की व्यवस्था को सरलीकृत करते हुए शिशु के जन्म होते ही स्थायी जाति प्रमाण पत्र देने की व्यवस्था की गई है। कांकेर जिले में अब तक 217 शिशुओं को स्थायी जाति प्रमाण पत्र दिया जा चुका है।

कार्यक्रम स्थल पर मुख्यमंत्री सुपोषित अभियान के जागरूकता अभियान के तहत ‘महु सुपोषित, मोर कांकेर सुपोषित’ विषय पर बनाई गई रंगोली लोगों के आकर्षण का केन्द्र थी। इस रंगोली को चारों तरफ पौष्टिक फलों, सब्जियों और अनाजों तथा अण्डा से आकर्षक ढंग से सजाया गया था। कार्यक्रम स्थल पर ही ‘महु सुपोषित, मोर कांकेर सुपोषित’ पर केन्द्रित एक सेल्फी जोन भी बनाया गया था। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल, गृह मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू और स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने भी यहां सेल्फी ली।

मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम स्थल में ही तीन शिशुओं को स्थायी जाति प्रमाण पत्र प्रदान किया। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा कि बीते अगस्त माह में कांकेर प्रवास के दौरान उनके द्वारा जो घोषणाएं की गई थी, उन्हंे स्वीकृत किया जा चुका है। जिला मुख्यालय में मल्टी यूटीलिटी सेंटर का निर्माण 04 करोड़ रूपये की लागत से किया जा रहा है। इसी तरह चार करोड़ 38 लाख रूपये से इंडोर स्टेडियम बनाया जा रहे हैं साथ ही 100 सीटर पोस्ट मैट्रिक अन्य पिछड़ा वर्ग कन्या छात्रावास भवन निर्माण की स्वीकृति दी जा चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *