मुख्यमंत्री से जे.ई.ई में चयनित दो दिव्यांग छात्रों ने की मुलाकात : मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना से दिव्यांग छात्रों की बदली जिन्दगी

रायपुर. मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से आज यहां उनके निवास कार्यालय में अखिल भारतीय इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा में चयनित दो दिव्यांग छात्रों मुदित देशमुख और आदित्य बोस ने सौजन्य मुलाकात की। इन दोनों ही छात्रों का मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना में काक्लियर इम्प्लांट हुआ था। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह इन दोनों छात्रों से आत्मीयता से मिले और उनके उज्जवल भविष्य के लिए बधाई एवं शुभकामनाएं दी।
मुलाकात के दौरान डॉ. भीम राव अम्बेडकर स्मृति चिकित्सालय रायपुर की नाक कान गला विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ. हंसा और डॉ. सुनील रामनानी ने बताया कि राज्य शासन की मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना से इन बच्चों की जिन्दगी बदल गई है। इन छात्रों ने सामान्य स्कूलों में पढ़कर अखिल भारतीय इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण की है। इन दोनों छात्रों का काक्लियर इम्प्लांट आपरेशन मेकाहारा में हुआ था।
बताया कि भिलाई के रहने वाले मुदित देशमुख मूक बधिर थे इनका 2010 में मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना में काक्लियर इम्प्लांट हुआ था। इस वर्ष आई.आई.टी के लिए प्रवेश परीक्षा (जे.ई.ई. एडवांस) में इन्हें द्विव्यांग श्रेणी में 22 वीं रैंक हासिल हुई है। इसी प्रकार रायपुर के आदित्य बोस का भी वर्ष 2008 में काक्लियर इम्लांट हुआ था। इनका भी अखिल भारतीय इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा (जे.ई.ई.) में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रायपुर में मेकेनिकल ब्रांच के लिए हुआ है।
डॉ. हंसा और डॉ. रामनानी ने मुख्यमंत्री को बताया कि पहले काक्लीयर इम्प्लांट के लिए मेकाहारा में अन्य संस्थानों से विशेषज्ञ चिकित्सक बुलाए जाते थे। लेकिन अब डॉ. भीमराव अम्बेडकर स्मृति चिकित्सालय के चिकित्सकों द्वारा सर्जरी की जा रही है। काक्लियर इम्प्लांट के लिए अब ज्यादा इंतजार भी नहीं करना पड़ता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *