India Hindi Newsराष्ट्रीय

63 साल की उम्र में बना था दूल्हा, किस्मत ने खेला ऐसा खेल 24 घंटे में ही मर गई दुल्हन

कहते हैं जोड़ियां ऊपर वाला ही बनाता है। वही तय करता है कि आपकी किस्मत में शादी का सुख कब, कहां और किसके साथ लिखा है। लेकिन आज हम आपको 63 साल के एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं जिसकी किस्मत में शादी का सुख 24 घंटे भी नहीं रहा। यह शख्स पिछले 30-35 साल से सिर्फ इसलिए कुंवारा था क्योंकि उसने ठान रखी थी कि शादी करूंगा तो अपने समाज की लड़की से ही नहीं तो ज़िंदगीभर कुंवारा बैठा रहूँगा।

बड़ी मुश्किल से इस शख्स की 24 जनवरी को 40 साल की महिला से शादी हुई, लेकिन दुल्हन ने जैसे ही ससुराल में कदम रखा तो कुछ देर बाद उसका निधन हो गया। इससे 63 साल के शख्स पर जैसे दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। यह पूरा मामला गुजरात के वडोदरा जिले के पीपलछट गांव का है। यहाँ रहने वाले 63 वर्षीय कल्याणभाई रबारी ने हाल ही में 40 वर्षीय लीलाबेन से धूमधाम से शादी रचाई थी।

इस शादी को लेकर वे बड़े उत्साहित थे। आखिर उनका 35 साल पुराना यह सपना सच होने जो जा रहा था। उन्होंने अपनी शादी में पूरे गांव को बुलाया और भरपेट खान भी खिलाया। फिर अगले दिन बारात लेकर वरसडा पहुंचे। यहां लड़की के माता पिता ने अपनी बेटी को खुशी खुशी विदा किया। 40 वर्षीय लीलाबेन की भी अभी तक शादी नहीं हुई थी। माता पिता बेटी का घर बसता देख खुश थे। लेकिन उन्हें क्या पता था कि ससुराल जाकर वो हमेशा के लिए उनसे जुदा हो जाएगी।

दरअसल दुल्हन शादी कर जैसे ही घर पहुंची तो वहां उसका रस्मों रिवाज से स्वागत हुआ। इसी दौरान वह अचानक चक्कर खाकर गिर पड़ी। बेहोश दुल्हन को कल्याणभाई जैसे तैसे अस्पताल लेकर पहुंचे, यहां डॉक्टर ने लीलाबेन को मृत घोषित कर दिया। कल्याणभाई और लीलाबेन का रिश्ता दो तीन महीने पहले ही तय हुआ था। एक जान पहचान वाले ने कल्याणभाई को इस रिश्ते के बारे में बताया था। बात जम जाने पर वे बेहद खुश थे।

63 साल की उम्र में उनके घर लक्ष्मी आई थी। लेकिन ऊपर वाले को कुछ और ही मंजूर था। शायद उनके जीवन में शादी का सुख नहीं लिखा था।

उधर लड़की के घर वाले भी अपनी प्यारी बिटिया को खोकर बहुत दुखी है। शादी की खुशी माताम में तब्दील हो गई। इससे सिर्फ परिवार ही नहीं बल्कि पूरा गांव दुखी है। सभी ऊपर वाले से यही पूछ रहे हैं कि ही भगवान आखिर तूने ये कैसी खुशी दी जो चंद लम्हों में ही छिन गई।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button