एयर स्ट्राइक के बाद आजम खान के बयान से मचा हड़कंप, मुसलमानों से कर दी बड़ी अपील…

हेलो दोस्तों कश्मीर के पुलवामा में हुए हमले से पूरा देश बुरी तरह आहत हुआ है. देशवासियों को सीआरपीएफ के 40 जवानों के शहीद होने का जितना गम है उससे कहीं ज्यादा उन पर गर्व भी है कि उन्होंने देश के लिए अपनी जान दे दी लेकिन शहीदों के परिजनों की भावनाओं की कदर करते हुए सरकार भी खामोश नहीं बैठी. जहां सरकार ने एक तरफ वर्ल्ड कप में पाकिस्तान और इंडिया के मैच ना होने का फैसला किया वहीं दूसरी तरफ पाकिस्तान को भारत द्वारा मिलने वाला पानी भी बंद कर दिया.

अभी ये कार्यवाही खत्म ही नहीं हुई थी कि भारत की वायु सेना ने पाकिस्तान पर हमला कर दिया और वहां के 300 से ज्यादा आतंकवादियों को ढेर कर दिया. हर कोई सिर्फ पुलवामा हमने के बारे में ही बात कर रहा है. यहां तक की 2019 के चुनाव में भी इस हमले का पूरा फायदा उठाया जा रहा है सभी पार्टियों के नेता बयानबाजी से पीछे नहीं हट रहे हैं और ऐसा ही कुछ किया है सपा के नेता आजम खान ने.

google

आजम खान से जब पूछा गया कि हमले के बारे मे उनका क्या कहना है तो उन्होंने बयान दिया कि “हिंदुस्तान हमारा वतन है मुल्क की हिफाजत और खुशहाली हमारे लिए सबसे अहम है हम अपने देश में अमन और चैन कायम रखने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं “. आजम खान ने यह भी कहा कि “सर्जिकल स्ट्राइक करना हमारी मजबूरी नहीं जरूरी था मोहम्मद के नाम पर दहशत के कैंप चलाना एखलाकी जुर्म और मजहबी पाप है मोहम्मद के नाम को बदनाम करने वालों कि दुनिया भर में निंदा करनी चाहिए”.
google

जैश ए मोहम्मद द्वारा कराए गए पुलवामा के हमले में सीआरपीएफ के जवान शहीद हुए थे जिसके कारण पूरे देश में दुख के साथ साथ पाकिस्तान से बदला लेने का आक्रोश भी है. हमले के बाद से ही केवल शहीदों के परिजन ही नहीं बल्कि हर कोई पाकिस्तान से बदला लेना चाहता था ऐसे में सरकार ने भी देशवासियों की भावनाओं का ख्याल रखते हुए मंगलवार को सुबह होने से पहले ही वायु सेना द्वारा पाकिस्तान के आतंकियों पर सर्जिकल स्ट्राइक कर दी.
google

सरकार और वायु सेना द्वारा उठाए गए इस कदम की हर तरफ सराहना की जा रही है. सपा नेता आजम खान ने भी वायु सेना के जवानों की खूब तारीफ की ।उन्होंने देश की सुरक्षा और देशवासियों की भावनाओं को प्राथमिकता दी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *