अटल विकास यात्रा 2018 : मुख्यमंत्री ने की बस्तर के आदिवासी समाज प्रमुखों का मानदेय बढ़ाने की घोषणा : मांझियों, मेम्बरिनों और बजनियों का बढ़ा मानदेय

रायपुर. मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने बस्तर संभाग के आदिवासी समाज प्रमुखों का मानदेय बढ़ाने की घोषणा की है। उन्होंने प्रदेश व्यापी अटल विकास यात्रा के दौरान आज रात संभागीय मुख्यालय जगदलपुर के वीरसावरकर भवन में आयोजित इन आदिवासी समाज प्रमुखों के सम्मेलन में कहा कि मांझियों का मानदेय 2000 रूपए से बढ़ाकर 2500 रूपए, मेम्बरिनों का मानदेय 1000 रूपए से बढ़ाकर 1500 रूपए और परम्परागत बाजा बजाने वाले बजनियों का मानदेय 500 रूपए से बढ़ाकर 1000 रूपए किया जाएगा। डॉ. सिंह ने आदिवासी समाज प्रमुखों की मांग पर सभी मांझियों और मेम्बरिनों को संचार क्रांति योजना के तहत निःशुल्क स्मार्ट फोन देने की भी घोषणा की। सम्मेलन में इन समाज प्रमुखों की ओर से मुख्यमंत्री को आदिवासियों के परम्परागत तुम्बा शिल्प की कला-कृति भेंट कर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर स्कूल शिक्षा और आदिम जाति विकास मंत्री श्री केदार कश्यप, बस्तर के लोकसभा सांसद श्री दिनेश कश्यप, जगदलपुर के विधायक श्री संतोष बाफना, राज्य युवा आयोग के अध्यक्ष श्री कमलचंद्र भंजदेव और बस्तर जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती जबिता मंडावी सहित कई वरिष्ठ जनप्रतिनिधि भी मौजूद थे।
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि नये दौर का बस्तर विकसित और आत्म विश्वास से भरपूर होगा। आने वाला कल बस्तर के युवाओं का है। अब बस्तर की चर्चा बस्तर के विकास और बस्तर में शिक्षा की सुविधाओं के विस्तार को लेकर होती है। मुख्यमंत्री आज शाम प्रदेशव्यापी अटल विकास यात्रा के अंतर्गत बस्तर जिले के बकावण्ड विकासखण्ड के ग्राम तारापुर में आयोजित एक विशाल आमसभा को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद दंतेवाड़ा का एजुकेशन हब और बस्तर के विकास को देखने के लिए आते हैं। वर्ष 2003 में बस्तर की पहचान पिछड़े, पलायन करने वाले और नक्सल हिंसा की चुनौती का सामना करने वाले क्षेत्र के रूप में थी। आज बस्तर के गांव-गांव में विकास की रौशनी पहुंची है। पूरे बस्तर में सड़कों का जाल बिछ गया है। नगरनार में नया इस्पात संयंत्र तैयार हो रहा है। जगदलपुर में मेडिकल कॉलेज प्रारंभ हो गया है। आज बस्तर के विद्यार्थी डॉक्टर, इंजीनियर बन रहे हैं। प्रशासनिक पदों पर भी उनका चयन हो रहा है। यह नया दौर बस्तर के विकास की नई इबारत लिख रहा है। डॉ. सिंह ने लोगों को गणेश पर्व और अभियंता दिवस की बधाई और शुभकामनाएं दी।
मुख्यमंत्री ने आमसभा में बस्तर जिले को 106 करोड़ रुपए से अधिक लागत के 110 विकास कार्यों की सौगात दी। डॉ. सिंह ने इनमें से 25 करोड़ 22 लाख रूपए के 41 विकास कार्यों का लोकार्पण तथा 77 करोड़ 94 लाख रूपए के 69 विकास कार्यों का भूमिपूजन और शिलान्यास किया। विभिन्न हितग्राही मूलक योजना में 74 हजार 612 हितग्राहियों को लगभग नौ करोड़ 48 लाख रूपए की सामग्री और सहायता राशि की गई। डॉ. सिंह ने इनमें से कुछ हितग्राहियों को प्रतीक स्वरूप सामग्री और राशि का वितरण किया। मुख्यमंत्री आमसभा में 28 हजार श्रमिको को टिफिन, स्मार्ट फोन, इसी प्रकार 36 हजार 140 तेन्दूपत्ता संग्राहकों को पांच करोड़ 89 लाख रूपए की बोनस राशि और 34 हजार 721 हितग्राहियों को चरण पादुका वितरण की प्रतीकात्मक शुरूआत की। इस अवसर पर आदिम जाति विकास मंत्री श्री केदार कश्यप, लोकसभा सांसद श्री दिनेश कश्यप और राज्य युवा आयोग के अध्यक्ष श्री कमलचंद भंजदेव सहित अनेक जनप्रतिनिधि और बड़ी संख्या में ग्रामीण जन उपस्थित थे।
डॉ. सिंह ने कहा कि अब बस्तर में कभी अंधेरा नहीं होगा। उन्होंने कहा कि कुछ समय पहले बस्तर में नक्सलियों ने बिजली के टावर गिरा दिए थे। बस्तर आठ दिनों तक अंधेरे में धकेल दिया गया था। राज्य सरकार ने बस्तर को 440 केव्ही लाईन, 220 केव्ही क्षमता की लाईन और 130 केव्ही क्षमता की बिजली लाईनों से कनेक्टिविटी देने का काम किया है। अब बस्तर कभी अंधेरे में नहीं डूबेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज किसानों के चेहरे पर खुशहाली दिख रही है। समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी एक नवम्बर से शुरू होगी। किसानों को प्रति क्विंटल 200 रूपए के बढ़े हुए धान के समर्थन मूल्य और राज्य सरकार द्वारा दिए जा रहे 300 रूपए प्रति क्विंटल के बोनस की राशि मिलाकर धान की किस्म के अनुसार किसानों को 2050 रूपए तथा 2070 रूपए प्रति क्विंटल मूल्य मिलेगा। डॉ. सिंह ने कहा कि प्रदेश में किसानों को धान बोनस के रूप में 2400 करोड़ रूपए की राशि वितरित की जाएगी। उन्होंने बताया कि मक्के समर्थन मूल्य में 275 रूपए की वृद्धि की गई है। उन्होंने कहा कि सरकार की छोटी-छोटी योजनाओं से आम आदमी के जीवन में बदलाव आ रहा है। संचार क्रांति योजना में बांटे जा रहे 50 लाख स्मार्ट फोन में 40 लाख फोन महिलाओं को बांटे जाएंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा – प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के अंतर्गत बस्तर जिले में गरीब परिवारों की एक लाख 08 हजार महिलाओं को रसोई गैस कनेक्शन दिए गए हैं। अनुसूचित जनजाति और अनुसूचित जाति के सभी परिवारों को इस योजना में रसोई गैस कनेक्शन दिए जाएंगे। उन्होंने बताया कि तेन्दूपत्ता संग्राहकों को 750 करोड़ रूपए का बोनस वितरित किया जा रहा है। प्रदेश के लगभग 12 लाख तेन्दूपत्ता संग्राहकों को चरण पादुकाएं वितरित की जा रही है। उन्होंने कहा कि मैं विकास यात्रा में जनता-जनार्दन का आशीर्वाद लेने निकला हूं। विकास यात्रा छत्तीसगढ़ के विकास और जनता के विश्वास की यात्रा है। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में विकास की रफ्तार और तेज होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री और छत्तीसगढ़ राज्य के निर्माता स्वर्गीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी की स्मृति में अटल नगर (नया रायपुर) में भव्य स्मारक बनाया जाएगा। इस स्मारक के लिए गांव-गांव और घरों के तुलसी चौरे की पवित्र मिट्टी अटल नगर लायी जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *