अज़ा’न की आवाज़ सुनकर कु’त्ते क्यूँ रो’ने लगते हैं? वजह ज़रूर जाने

अस्सलामु अलैकुम मेरे प्यारे भाइयों और बहनों आज हम आपको बताएंगे कि क्यों अज़ा’न की आवाज सुनते ही कु’त्ते रो’ने लगते हैं? दोस्तों अक्सर आपने सुना होगा कि जैसे ही अज़ा’न शुरू होती है अजा’न की आवाज सुनते ही कु’त्ते रो’ने लगते हैं या अजी’ब आवाज निकालने लगते हैं लेकिन बहुत कम ही लोग हैं जो यह बात जानते हैं कि कु-त्ते अजा’न के वक्त क्यों रोते है.

किसी ने एक बुजुर्ग से पूछा की कु-त्ते अज़ा’न की आवाज सुनकर क्यों भोकने या रो’ने लगते हैं और अजा’न खत्म होते ही चुप हो जाते हैं ?खास तौर पे ये फजिर के वक्त ज्यादातर देखा गया है ।उस पर बुजुर्ग ने जवाब दिया कि अ’ल्लाह ने जानवरों को एक ऐसी ताकत अता की है जो इंसानों को नहीं दी।जबकि कहा जाता है कि इंसान अशरफुल मख़लूक़ात है (यानी कि तमाम मखलूक में सबसे अव्वल) फिर भी इंसानों को वह ताकत नहीं दी जो बेजुबान जानवरों को दी.

google

इंसान अपनी आंखों से वह नहीं देख सकता जो जानवर देख सकते हैं किसी पर आने वाली मुसीबतें खतरा या बालाओं को यह जानवर देख सकते हैं।लेकिन बेजुबान होने की वजह से इंसानों को बता नहीं सकते हैं कि किस पर यह खतरा आने वाला है या कौन सी बालाएं घूम रही हैं इसलिए वह इस तरह की आवाज निकाल कर या रो कर इंसानों को बताने की कोशिश करते हैं.

यही वजह है कि अ’जान के शुरू होते ही खासतौर पर फजिर की अ’जान. रात के वक्त सारी बलाएं और बुरी शक्तियां घूमती है और जैसे ही फजिर की अ’जान शुरू होती है ।तमाम शैतान और बलाएं भागना शुरु कर देती हैं यह देखते ही यह कुत्ते रोने जैसी आवाज निकालने लगते हैं.

google

कहते हैं जब किसी इलाके में कुत्ते या बिल्ली रोते हैं तो उस इलाके में किसी के इंतेक़ाल या कोई बुरी खबर सुनाई देती है इसलिए लोग कुत्ते और बिल्ली को मनहूस समझते हैं और उनके रोने पर उन्हें मार के भगा देते हैं अब लोगों को कैसे बताया जाए कि यह बेजुबान जानवर मनहूस नहीं है बल्कि आने वाली मुसीबतों को पहले से जानते हैं और हमें बताने की कोशिश करते हैं. दोस्तों अब आप समझ गए होंगे कि अ’जान के वक्त खासतौर पर फज़िर की अजा’न के वक्त क्यों कुत्ता रोने लगता है.

One thought on “अज़ा’न की आवाज़ सुनकर कु’त्ते क्यूँ रो’ने लगते हैं? वजह ज़रूर जाने”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *