विडियो:- बंगाल में ममता बनर्जी की तानाशाही पर भड़के रवीश कुमार.

ममता बनर्जी या किसी और नेता की फ़र्ज़ी तस्वीर लगाने का हम बचाव नहीं कर सकते हैं और खासकरके अगर वो तस्वीर है या फिर धार्मिक तनाव पैदा करने के लिए लगायी गयी है अगर कोई ऐसी तस्वीर लगाये भी तो ऐसा होना चाहिए कि उसे आदमी अपने दिल पर न ले और अपना दिमाग न खराब करे और बवाल करने में शामिल न हों और हंसी मज़ाक की इन सब चीज़ों को लोग इतना बुरा मान जाते हैं कि किसी को जेल भी भेजवा सकते हैं इस बात का पूरे दमखम से विरोध करना चाहिए दुर्भाग्य से ये काम सभी पार्टियाँ करती रही हैं आरएसएस और बीजेपी हालाँकि इसमें ज्यादा शामिल रही है ये बाते वरिष्ठ पत्रकार रविश कुमार ने अपने शो में कही.

रविश कुमार ने आगे कहा कि नेहरु और गाँधी की गन्दी तस्वीरे उन्ही खेमे से आती रही लेकिन फिर भी ममता बनर्जी की मोफ्ट तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर करने पर हावड़ा की बीजेपी पार्टी की संयोजक प्रियंका शर्मा की गिरफ्तारी लोकतंत्र की भावना के उतने ही खिलाफ है जितना कि इस तरह की तस्वीरे जारी करना. चाहे तो याद कर सकते हैं कि ममता बनर्जी सिर्फ नकली तस्वीरों पर ही नहीं बल्कि असली तस्वीरों पर भी नाराज़ हो जाती हैं.

कोलकाता के कई कलाकारों और फिल्मकारों और प्रोफ़ेसर को भी उनका गुस्सा झेलना पड़ा है 2012 में एक प्रोफ़ेसर की भी गिरफ्तारी गयी थी जिनका नाम अम्बिकेश महापात्र था ये गिरफ्तारी सिर्फ इस वजह से हुई थी कि उन्होंने एक ईमेल भेजा था जिसमे ममता बनर्जी का कार्टून था ममता की इस निर्ममता का सामना फिल्म कलाकारों को भी करना पड़ा है.

आपको बता दें कि अनिक दत्ता की फिल्म भोबिश्येर भूत को सिनेमाघरों से उतार दिया गया था ऐसा इस लिए हुआ क्योंकि ममता इस फिल्म से खुश नहीं थीं इसी तरह श्यामा प्रसाद मुखर्जी पर बनी फिल्म भी पश्चिम बंगाल में नहीं दिखाई जा सकी है जबकि ये वही ममता हैं जो दूसरों को लेकर जब आक्रामक होती हैं तो किसी भी हद तक चली जाती हैं.आगे देखिये विडियो.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *