केन्द्रीय मंत्री श्री विष्णुदेव साय ने की प्रदेश के 10 आकांक्षी जिलों की समीक्षा : जिला कलेक्टरों ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में दी योजनाओं की प्रगति की जानकारी

रायपुर. केन्द्रीय इस्पात राज्यमंत्री विष्णुदेव साय ने आज यहां मंत्रालय (महानदी भवन) में प्रदेश के दस आकांक्षी  जिलों में चल रहे विकास कार्यों की समीक्षा की। जिला कलेक्टरों ने वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से अपने जिले में केन्द्र और राज्य शासन की विभिन्न योजनाओं की प्रगति की जानकारी दी। लोकसभा सांसद द्वय श्री चंदूलाल साहू और श्री अभिषेक सिंह तथा मुख्य सचिव श्री अजय सिंह उपस्थित थे। केन्द्रीय राज्य मंत्री श्री साय ने कोरबा, महासमुंद, बस्तर, बीजापुर, दंतेवाड़ा, कांकेर, कोण्डागांव, नारायणपुर, राजनांदगांव और सुकमा के कलेक्टरांे से शिक्षा, स्वास्थ्य, सिंचाई, पेयजल, सड़क निर्माण, सिंचाई, कृषि, स्वच्छता, कौशल विकास, फसल बीमा, कुपोषण मुक्ति सहित विभिन्न योजनाओं के क्रियान्वयन की जानकारी ली।
समीक्षा के दौरान कांकेर कलेक्टर ने जानकारी दी कि भारत नेट परियोजना के तहत कांकेर के 132 गांवों को इंटरनेट कनेक्टिविटी से जोड़ दिया गया है। एक सौ गांवांे में कनेक्टिविटी देने का कार्य तेजी से चल रहा हैै। स्काई योजना के तहत गांवों में टॉवर भी स्थापित किए जा रहे हैं। उन्होंने यह भी जानकारी दी कि जिले में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत लगभग तेरह हजार किसानों के खेत सुधार के कार्य कराए गए हैं। मनरेगा मद से तालाब और डबरी का निर्माण कराया जा रहा है। राजनांदगांव लोकसभा क्षेत्र के सांसद श्री अभिषेक सिंह ने कहा कि राजनांदगांव जिले के दूरस्थ क्षेत्र में भारत तिब्बत सीमा सुरक्षा बल और स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से लोगांे को स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाने और बच्चों में कुपोषण दूर करने का सराहनीय प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने दूरस्थ क्षेत्रों में ज्यादा से ज्यादा स्वास्थ्य शिविर लगाये जाने की जरूरत बतायी। उन्होंने कहा कि जिले में मनरेगा के मजदूरों को समय पर मजदूरी भुगतान के लिए सप्ताह में एक दिन निश्चित किया जाए।
महासमुंद लोकसभा क्षेत्र के सांसद श्री चन्दूलाल साहू ने महासमुंद जिले में स्कूल भवनों के निर्माण कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए। मुख्य सचिव ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को इस संबंध में त्वरित कार्रवाई के निर्देश दिये। समीक्षा बैठक में नारायणपुर और सुकमा के कलेक्टरों ने जिले में स्वास्थ्य सुविधाओं और बच्चों में कुपोषण दूर करने के प्रयासों के बारे में जानकारी दी। सुकमा कलेक्टर ने बताया कि जिले में बच्चों में कुपोषण दूर करने में समुदाय का सहयोग भी लिया जा रहा है। आंगनबाड़ियों के माध्यम से बच्चों को पोषण आहार दिया जा रहा है। मुख्य सचिव ने कलेक्टर को निर्देश दिए है कि स्वास्थ्य केन्द्रों में रिक्त पदों की जानकारी शीघ्र भेंजे। मुख्य सचिव ने सुकमा जिले में जैविक खाद के उपयोग को प्रोत्साहित करने के निर्देश दिए। कांकेर जिले के कलेक्टर ने बताया कि जिले के सुदूरवर्ती क्षेत्र भानुप्रतापपुर, चारामा और कोयलीबेड़ा में बच्चों में कुपोषण की समस्या से निपटने के प्रयास जारी हैं। श्री साय ने कांकेर जिले में सौभाग्या योजना में बिजली कनेक्शन देने की प्रगति, पेयजल और परिवहन की स्थिति की जानकारी ली। कलेक्टर ने बताया कि कई दूरस्थ क्षेत्रों के कई गांवों में लोग डोंगी के जरिये आना जाना करते है।
बैठक में वन विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री सी.के. खेतान, वित्त विभाग के प्रमुख सचिव श्री अमिताभ जैन सहित स्कूल शिक्षा, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति विकास, कृषि, योजना, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, स्वास्थ्य आदि विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *