कांग्रेस और प्रसपा का गठबंधन हुआ तय, इन बीस सीटो पर शिवपाल की पार्टी लड़ेगी चुनाव

ये कयास इसलिए लगाए जा रहे हैं क्योंकि शिवपाल ने बाकायदा प्रियंका गांधी वाड्रा को फोन करके मुलाकात का वक्त मांगा है.शिवपाल यादव के फोन पर कांग्रेस नेता प्रियंका गाँधी ने सकारत्मक संकेत दिए है.फोन पर प्रियंका ने व्यस्तता की बात कहकर दो-दिन बाद मिलने को कहा है.शिवपाल यादव और प्रियंका के फोन से सपा और भाजपा के खेमे में हडकंप मच गया है.

शिवपाल यादव और प्रियंका गांधी के बीच वार्ता से इन खबरों को बल मिला है जिसमे कहा जा रहा है कांग्रेस कई दलों के साथ मिलकर तीसरा मोर्चा बनाने की दिशा में काम कर रही है.कांग्रेस ने महान दल से पहले ही गठबंधन कर लिया है अब वो पीस पार्टी और प्रसपा से गठबंधन करके भाजपा एवं सपा-बसपा गठबंधन के बीच त्रिकोण बनाना चाह रही है.

google

जानकारों के अनुसार,प्रदेश में प्रियंका फैक्टर मौजूद है इसलिए अगर कोइ मोर्चा बनता है फिर सपा-बसपा के साथ साथ भाजपा को भी मुश्किलों का सामना करना पड़ना तय है.उधर लखनऊ के राजनीतिक गलियारों में चल रही चर्चा की मानी जाए तो शिवपाल,उत्तर प्रदेश की 20 सीटों पर तालमेल चाहते हैं वो बहुत जल्द प्रियंका और कांग्रेस के दूसरे बड़े नेताओं से मुलाकात के लिए पार्टी दफ्तर जा सकते हैं.कुछ दिन पहले उन्होंने बयान दिया था कि कांग्रेस चाहे तो वो गठबंधन के लिए पूरी तरह तैयार है.
google

शिवपाल सिंह यादव का फिरोजाबाद,आजमगढ़,कानपुर,कन्नौज,औरय्या,डुमरियागंज,मोहनलालगंज,एटा,सीतापुर,मेरठ,हरदोई,प्रतापगढ़,चन्दौली,फैजाबाद,सलेमपुर,जौनपुर,मछलीषहर,भदोही और मिर्जापुर की सीट पर चुनाव लड़ने का दावा है.कांग्रेस सूत्रों के अनुसार,पार्टी शिवपाल यादव की पार्टी को 10 से ज्यादा सीट देने को तैयार नही है.
google

कांग्रेस की कोशिश है कि शिवपाल यादव को कम से कम सीटो पर मनाया जाए ताकि अखिलेश यादव भी नाराज़ न हो और गठबंधन भी बन जाए.उत्तर प्रदेश में कुल 80 लोकसभा सीटें हैं.सपा और बसपा पहले ही गठबंधन का एलान कर चुके हैं.दोनों 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे.सपा और बसपा के गठबंधन में रालोद और निषाद पार्टी भी शामिल है वही कांग्रेस के लिए सपा-बसपा ने सिर्फ दो सीट ही छोड़ी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *