इस महिला IPS अफसर का 20 साल में 40 बार से ज्यादा हो चुका है ट्रांसफर, एक CM को कर चुकी हैं गिरफ्तार

d roopa ips officer

नमस्कार दोस्तों, हम आपका हार्दिक अभिनन्दन करते हैं अपने इस पोस्ट में. इस दुनिया में ऐसे कितने लोग होते हैं जिन्हें अच्छा पद और मौका दोनों ही मिलता हैं परन्तु इन सब में से कुछ ही लोग ऐसे होते हैं जो अपने पद का सही इस्तेमाल किया करते है और साथ ही किसी भी प्रकार के कुछ गलत के खिलाफ भी आवाज उठाने की हिम्मत रखते हैं. अक्सर हमारे देश में ऐसा होता है कि ईमानदार अधिकारी जो होते है उन्हें उनके काम करने के तरीकों के वजह से विभागीय ऐक्शन का सामना करना पड़ता है. आज हम आपको ऐसी ही सच्ची कहानी सुनाने जा रहें है, जी हाँ, हम बात कर रहें है हरियाणा के IAS अफसर अशोक खेमका (Ashok Khemka) के बारे में जिन्होंने अपने काम करने के तरीको के कारण ना जाने कितनी समस्याओं को झेला है. आज हम इस पोस्ट में एक ऐसे ही IPS अफसर की बात करने जा रहें है जिन्हे हर 6 महीने पर ट्रांसफर और पोस्टिंग के ऑर्डर दे दिया जाता है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें, रूपा, कर्नाटक (Karnataka) कैडर के 2000 बैच की आईपीएस अधिकारी बनी थी. रूपा इस प्रदेश की पहली महिला होम सेक्रेटरी हैं. अभी कुछ समय पहले ही रूपा का राज्य के गृह विभाग से हैंडलूप एम्पोरियम में ट्रांसफर किया गया था, इसके पीछे का कारण यह था कि उन्होंने एक बड़े अफसर के कथित भ्रष्टाचार का खुलासा सब के सामने किया. रूपा से बातचित के दौरान वह यह बताती हैं कि ऐसा करना उनके लिए कोई नया नहीं है, इससे पहले भी उनके साथ ऐसा बहुत बार हो चुका है. रूपा जब भी किसी के खिलाफ अपनी आवाज उठाती हैं, तब उनका ट्रांसफर कर दिया जाता है. रूपा ने बहुत सारे लोगो के खिलाफ आवाज़ उठाई है जैसे जेल में बंद AIDMK की नेता शशिकला के खिलाफ, साल 2003-2004 के दौरान एमपी की तत्कालीन सीएम उमा भारती को गिरफ्तार करने के खिलाफ, न जाने कितनी बार उनके काम के खिलाफ सवाल भी उठाए गए हैं.

20 साल के सर्विस में 40 हो चुका हैं बार ट्रांसफर

आपकी जानकारी के लिए बता दें, जब रूपा बेंगलुरु के सेफ सिटी प्रॉजेक्ट का काम देख रही थी. तब उसमे उन्होंने एक वरिष्ठ आईपीएस अफसर हेमंत निंबालकर ( Hemant Nimbalkar) पर टेंडर प्रोसेस में कुछ गड़बड़ी करने का आरोप लगाया था जिसके कारण उनका वहां से भी ट्रांसफर कर दिया गया. अब फ़िलहाल वो राज्य के हैंडलूम एम्पोरियम का कामकाज देखें रही हैं. बता दें, रूपा ने यूपीएससी परीक्षा में ऑल इंडिया में 43वीं रैंक हासिल किया था. इस परीक्षा में पास होने के बाद उन्हें आईएएस पद पर नियुक्ति मिली थी परन्तु वह आईपीएस बनना चाहती थी. इसी कारण उन्होंने आईएएस छोड़ आईपीएस चुना. आईपीएस बनने के बाद रूपा का 20 साल के सर्विस में तकरीबन 40 बार ट्रांसफर हो चुका है.

भरतनाट्यम डांसर, प्लेबैक सिंगर और एक बेहतरीन शार्प शूटर हैं रुपा

आपको बता दें, रूपा पुलिस सर्विसेज के अलावा भी कई क्षेत्रो में माहिर है. जैसे रुला एक बेहतरीन ट्रेंड भरतनाट्यम डांसर भी हैं इसके साथ ही वह भारतीय संगीत की ट्रेनिंग भी लेती है. सिर्फ इतना ही नहीं साथ में यह भी जान लें की बयालाताड़ा भीमअन्ना नामक कन्नड फिल्म में उन्होंने एक प्लेबैक सिंगर के रूप में गाना भी गाया था. इसके साथ ही रूपा एक कमाल की शार्प शूटर भी हैं, जिसमें उन्हें बहुत सारे पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया है. बता दें, रूपा की शादी आईएएस अफसर मुनीश मुद्गील (Munish Mudgal) से साल 2003 में हुई थी. रूपा के अलावा उनके घर में उनकी छोटी बहन रोहिणी दिवाकर (Rohini Diwakar) भी 2008 बैच की आईआरएस ऑफिसर बनी.

d roopa ips officer

रूपा को कोई फर्क नहीं पड़ता है ट्रांसफर से

दरअसल, एक इंटरव्यू के दौरान रूपा यह कहती हैं कि ट्रांसफर होना हर सरकारी नौकरी का हिस्सा है. उन्होंने बताया की उन्होंने उतने साल नौकरी भी नहीं की है जितना बार उनका ट्रांसफर हुआ है. रूपा यह बहुत अच्छे से जानती हैं कि वह जो भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठती है वह कितना जोखिम से भरा हुआ है. इसी कारण ही उनका ट्रांसफर भी होता हैं, परंतु इसके बाद भी उन्होंने कभी हिम्मत नहीं हारी और ना ही उन्होंने अपने काम करने के तरीके को बदला. रूपा के ट्रांफर पर राज्य के अलग-अलग वर्ग में काफी मिलीजुली प्रतिक्रिया हुई थी तथा इसके साथ ही सोशल मीडिया पर भी बहुत से लोग उनके ट्रांसफर के फैसले के खिलाफ नज़र आते थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *