पैसे नहीं थे तो पिता ने जमीन बेची, बेटी बनी सबसे कम उम्र की पायलट

गुजरात में एक किसान परिवार की बेटी ने महज 19 साल की उम्र में पायलट(pilot) बनकर इतिहास रच दिया। बेटी की सफलता के पीछे पिता का संघर्ष है, अपनी इकलौती बेटी को पायलट(pilot) बनाने के लिए जब किसी सरकारी बैंक से लोन नहीं मिला तो किसान पिता ने अपनी ज़मीन बेचकर उसके सपने को साकार किया।

दरअसल, सूरत की रहने वाली मैत्री पटेल हाल ही में अमेरिका से पायलट(pilot) बनकर अपने घर आई है। इतनी कम उम्र में बेटी के पायलट बनने से माता-पिता की खुशी का ठिकाना नहीं है। घर में उत्सव जैसा माहौल है, पूरा परिवार बेटी की इस कामयाबी से फूला नहीं समा रहा है। मैत्री के पिता कांतिभाई पटेल और मां रेखा पटेल ने बेटी मैत्री को तिलक लगाकर और आरती उतारकर जिंदगी में आगे बढ़ने का आर्शीवाद दिया।

मैत्री ने सूरत के एक निजी स्कूल में 12वीं तक की पढ़ाई की। इसके साथ ही मुंबई की एक एविऐशन कंपनी में पायलट की ट्रेनिंग ली। इसके बाद आगे के कोर्स के लिए वह अमरेकिा जाना चाहती थी। लेकिन परिवार की आर्थिक हालात रोड़ा बन रही थी। पिता कांतिभाई पटेल ने बेटी का सपना पूरा करने के लिए बैंकों से लोन लेने गया, लेकिन बैंक ने लोन देने से मना कर दिया। जब कहीं से वह पैसा नहीं जुटा सके तो उन्होंने अपनी पूरी जमीन बेच दी। ताकि बेटी की ट्रेनिंग की फीस भर सकें।

Farmer daughter pilot

आम तौर पर कमर्शियल विमान उड़ाने की ट्रेनिंग 18 महीने में पूरी होती है और बहुत से 18 महीने में भी ट्रेनिंग पूरी नहीं कर पाते हैं। ऐसे में उनके लिए ट्रेनिंग के 6 महीने और बढ़ा दिए जाते हैं। लेकिन मैत्री पटेल ने महज 11 महीने में ही कमर्शियल पायलट बनने की ट्रेनिंग पूरी कर ली। बता दें कि मैत्री की पायलट बनने की कहानी एक प्लेन में यात्रा करने के दौरान शुरू हुई थी। जब उसने 8 साल की उम्र में पहली बार सूरत से दिल्ली के लिए प्लेन में सफर किया था। इस दौरान मैत्री ने अपने पिता से यूं ही पूछा कि पापा ये हवाई जहाज कैसे उड़ता..कौन उड़ाता है, तो पापा का जवाब था कि पायलट। इसके बाद मैत्री ने पूछा पायलट(pilot) कैसे बनते हैं। मैं भी बढ़ा होकर ऐसे ही हवाई जहाज उड़ाऊंगी।

Farmer daughter pilot

बताया गया कि अमेरिका में कमर्शियल विमान उड़ाने के लिए मैत्री पटेल को लाइसेंस मिल गया है, पर अभी भारत में विमान उड़ाने के लिए यहां के नियमों के मुताबिक ट्रेनिंग लाइसेंस लेना पड़ेगा। यहां का ट्रेनिंग लाइसेंस मिलते ही मैत्री भारत में भी विमान उड़ा सकेंगी। सिर्फ़ 19 साल की उम्र में पायलट बनकर मैत्री पटेल देश में सबसे कम उम्र की पायलट(pilot) बन गई हैं। मैत्री अब आगे कैप्टन बनना चाहती हैं और अपनी अलग पहचान बनाना चाहती हैं।

Farmer daughter pilot

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *