आपके जीवन पर संकट ले आते हैं ये 4 काम, इनसे तौबा करने में भलाई !

गरुड़ पुराण Garuda Purana में ऐसी तमाम बातों के बारे में बताया गया है, जो व्यक्ति के लिए काफी काम की हैं. यदि उनका अनुसरण करके अपने जीवन में उतार लिया जाए तो कई समस्याओं से बचा जा सकता है. गरुड़ पुराण  Garuda Purana को लेकर आमतौर पर लोगों का मानना है कि इसमें मृत्यु और इसके बाद की स्थितियों के बारे में बताया गया है. लेकिन ऐसा नहीं है. गरुड़ पुराण में जीवन को बेहतर तरीके से जीने की तमाम नीतियों के बारे में भी उल्लेख किया गया है. यदि व्यक्ति इन नीतियों को समझकर इनका पालन करे तो कई समस्याओं को आसानी से सुलझा सकता है और कई परेशानियों से आसानी से बच सकता है. यहां जानिए गरुड़ पुराण की आचारकांड में बताए गए उन कामों के बारे में जो आपके जीवन पर संकट ला सकते हैं. इन कामों को न करने में ही भलाई है. Garuda Purana

1. अगर आप रखे हुए मांस का सेवन करते हैं, तो इसका सीधा असर आपकी सेहत पर पड़ता है. रखे हुए मांस पर कई तरह के खतरनाक बैक्टीरिया उत्पन्न हो जाते हैं. यदि इनका सेवन किया जाए तो ये बैक्टीरिया शरीर के अंदर भी चले जाते हैं और व्यक्ति को इसके कारण जानलेवा बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है. इसलिए कभी भी ज्यादा दिन रखा हुआ या सूखा हुआ मांस नहीं खाना चाहिए.


2. अगर को रात में दही का सेवन करता है तो वो निश्चित तौर पर बीमार होगा क्योंकि दही ठंडी प्रकृति का होता है. इसे रात में खाने से कफ संबन्धी विकार होने की आशंका काफी बढ़ जाती है. साथ ही इसे रात में ​पचने में भी समस्या आती है. इसके कारण व्यक्ति को कई तरह की परेशानियां होती हैं. Garuda Purana

3. जब भी किसी के शव के दाह संस्कार के लिए जाएं तो वहां ज्यादा देर न रुकें. यदि मृत व्यक्ति किसी बीमारी से ग्रसित होकर मरा है, तो उसके शरीर में कई तरह के बैक्टीरिया उत्पन्न हो जाते हैं. दाह संस्कार के समय ये बैक्टीरिया हवा में उड़कर हमारे शरीर में प्रवेश कर जाते हैं. इसके अलावा भी श्मशान में न जाने कितने शव जलाए जाते हैं, जिनके वायरस हवा के साथ हमारे शरीर में जा सकते हैं. इसलिए श्मशान के धुएं से बचने का प्रयास करना चाहिए. Garuda Purana

4. गरुड़ पुराड़ Garuda Purana के अनुसार हर काम के लिए एक नियमित समय बताया गया है. यदि आप सुबह जल्दी उठते हैं तो आप ताजी हवा में सांस लेते हैं और इससे आपके फेफड़े स्वस्थ होते हैं. साथ ही आपके पास व्यायाम का भी समय होता है. देर तक सोने की आदत भी कई तरह की बीमारियों को जन्म देती है. Garuda Purana

(यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं, इसका कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.) Garuda Purana

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *