इन दस सवाल को सुनते ही भा’ग जाता है हर मु’सलमान, पढ़िए और जानिए उनके जवाब…

अस्सलाम वालेकुम मेरे प्यारे भाइयों और बहनों आज हम आपको बताने जा रहे हैं मुसलमानो से जुड़े उन 10 सवालों के बारे में जिसे हर गैर धर्म का व्यक्ति जानना चाहता है और यह सवाल सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहे हैं। लोगों का मानना है इन सवालों का जवाब कोई नहीं दे सकता है तो आइए दोस्तों आज हम आपको बताते हैं कि वह 10 सवाल क्या है और उनके जवाब क्या है।

Q 1- मुस्लिम ग्रंथ कुरान में कहीं भी खतने का जिक्र नहीं है तो फिर वह लोग खतना क्यों कराते हैं? A- दोस्तों कुरान में कहीं भी खतने का जिक्र नहीं है।खतना कराना सुन्नत है ।सुन्नत का मतलब ,वह चीजें जो हमारे नबी और साहबा ने अपने वक्त में की हो या करवाई हो। ऐसा नहीं है कि जो मुसलमान खतना नहीं कराता वह मुसलमान नहीं है खतने के बिना भी इंसान मुसलमान रह सकता है। कुरान में अगर खतना कराने के बारे में कोई आदेश नहीं दिया गया है तो खतना ना कराने के बारे में भी कोई आदेश नहीं है इसलिए खतना कराना अल्लाह के हुक्म का उल्लंघन नहीं है।

google

Q 2- कुरान की पहली लिखित प्रति जो आसमान से उतारी गई थी वह अब कहां है? A- दोस्तों आज तक किसी ने यह नहीं कहा कि आसमान से कुरान की सूरह लिखित उतारी गई थी। अल्लाह ने जिब्रील अली सलाम के द्वारा जो भी सूरह भेजी वह उन्होंने हमारे नबी को कंठस्थ कराई थी ना कि किसी कागज पर लिख कर दी थी।

Q 3- यदि 3 दिन का बच्चा मर जाए तो वह जन्नत में जाएगा या जहन्नुम में? A- दोस्तों मुस्लिम धर्म ही नहीं बल्कि प्रत्येक धर्म में यह कहा जाता है कि बच्चे ईश्वर का दूसरा रूप होते हैं ऐसे में बच्चों की एक निश्चित आयु के बाद उनके पापों की लिखा पढ़ी होती है जब तक कि बच्चे समझदार नहीं हो जाते उनको अबोध कहा जाता हैं ऐसे में 3 दिन का बच्चा कैसे कोई पाप कर सकता है । यह बात निश्चित है कि यदि 3 दिन का बच्चा मर जाए तो वह जन्नत में ही जाएगा।

Q4- पुरुषों को जन्नत में 72 हूरें मिलेंगी तो महिलाओं को क्या मिलेगा यदि अबोध बच्चे मर जाए तो जन्नत में उन्हें क्या मिलेगा? A- सबसे पहले आपको यह बता दिया जाए की हूरों का मतलब किसी जेंडर से नहीं है ।हुरों का मतलब है कि सुंदर आंखों वाला व्यक्ति ।तो यदि कोई पुरुष अविवाहित हो तो उसको जन्नत में हूरे मिलेंगी और यदि कोई महिला अविवाहित हो तो भी उसे जन्नत में हुरे ही मिलेंगे और रही बात विवाहित महिला और पुरुष की तो कुरान में यह कहा गया है कि यदि वे नेक और प्रेमी पति पत्नी है तो जन्नत में उन्हें एक दूसरे के साथ रहने का अवसर दिया जाएगा। रही बात किसी अबोध बच्चे के मर जाने की तो बेशक वह जन्नत में ही जाएंगे लेकिन कई विद्वानों का कहना है कि जन्नत में उनकी वायु 10 से 12 वर्ष कर दी जाएगी और वे जन्नत की वादियों का जन्नत वासियों के साथ मजा लेंगे।

google

Q5- अगर गैर मुस्लिम मिलकर मुस्लिमों से युद्ध करें तो जिहाद को पुण्य मानने वाले मुस्लिम इस युद्ध को पुण्य मानेगे या पाप? A- दोस्तों सबसे पहले तो मैं आपको यह बता दूं कि मुस्लिमों को किसी पर आक्रमण करने की अनुमति सिर्फ तब ही है जब वे आत्मरक्षा के लिए आक्रमण करें बिना वजह किसी पर आक्रमण नहीं कर सकते हैं कुरान में कहीं भी मुस्लिमों को पहले युद्ध शुरू करने की अनुमति नहीं दी गई है। कुरान में यह बात साफ कहीं गई है कि “और जो तुम से लड़ने आए बेशक तुम खुदा की राह में उनसे लड़ो मगर किसी पर अत्याचार ना करना” ( क़ुरान सूरह2,आयात 190).

Q6 -क्या नेक काफिर भी जहन्नम में जाएंगे ?ऐसा करना क्या उनके साथ अत्याचार नहीं है? A- जिन लोगों को कभी इस्लाम के बारे में पता ही नहीं चला हो या फिर किसी ने उन लोगों को इस्लाम के बारे में बताया ना हो और इस्लाम में शामिल होने की दावत ना दी हो ऐसे लोगों के लिए हदीस है कि अल्लाह कयामत के दिन उन लोगों की परीक्षा लेगा और अगर उस वक्त वह उस परीक्षा में सफल हुए तो उनके जन्नत में जाने की चांस है लेकिन अगर उस परीक्षा में असफल हुए तो वे जहन्नुम में ही जाएंगे। जो लोग इस्लाम को जानते हुए भी इस्लाम में शामिल नहीं हुए हैं उनको तो जहन्नुम ही मिलेगी इसमें कोई शक नहीं है।

google

Q7- कहा जाता है कि रसूल ने निराकार अल्लाह को देखा है जब कि किसी ने अल्लाह को देखा ही नहीं ।तो रसूल ने कैसे पहचाना कि यही अल्लाह है उन को कैसे पता चला कि यह अल्लाह ही है कोई जिन्न नहीं?
A- मुझे हैरानी है कि कुरान का ज्ञानी होने के बावजूद यह सवाल उठाया गया क्योंकि कुरान में यह लिखा गया है कि नबी ने अल्लाह से बात की है ना कि अल्लाह को देखा है। और रही बात जिन की तो यह हदीस में लिखा है कि जिन या शैतान की पहुंच आसमान के नीचे तक की है वह आसमान के ऊपर जा ही नहीं सकते हैं जबकि नबी ने अल्लाह से आसमानों के ऊपर बात की है यानी कि मिराज पर।

Q8- नबी ने यारोशलम की मस्जिद में नमाज कैसे पढ़ी? जबकि उनके समय में सारी मस्जिदों को रोमनों ने नष्ट कर दिया था? A- नबी के समय में मस्जिद ए अक्सा खंडहर के रूप में थी और उन्होंने उसी खंडहर में नमाज पढ़ी थी। Q9- प्यारे नबी तो अनपढ़ थे फिर अल्लाह ने उन में ऐसा क्या देखा कि उन्हें नबी बना दिया ?नवी बनने के बावजूद अल्लाह ने उन्हें पढ़ने की शक्तियां क्यों नहीं दी? A- अल्लाह के नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम अनपढ़ थे फिर भी उन्होंने पूरी कुरान को सुना दिया यह भी तो अल्लाह का ही चमत्कार है और प्यारे नबी में बहुत सारी अच्छी आदतें थी जैसे कि बड़ों की इज्जत करना ,गुस्सा ना करना ,किसी का हक ना मारना ,बिना वजह जंग ना करना, इन सब अच्छाइयों को देखकर ही अल्लाह ने उन्हें अपना नबी बनाया।

google

Q10- जो इंसान विधर्मियो पर आक्रमण करके उनका माल रख ले उसे अल्लाह का रसूल क्यों माने? A- इसका जवाब पांचवें प्रश्न के उत्तर में ही दिया जा चुका है कि प्यारे नबी कभी भी युद्ध की शुरुआत नहीं चाहते थे उन्होंने युद्ध की अनुमति तभी दी है जबकि मुसलमानों पर खतरा या मुसीबत देखी हो या मुसलमानों की स्त्रियों की इज्जत पर खतरा हो या फिर जब मुसलमानों का माल लूटा गया हो तभी उन्होंने युद्ध की बात की है।

2 thoughts on “इन दस सवाल को सुनते ही भा’ग जाता है हर मु’सलमान, पढ़िए और जानिए उनके जवाब…”

  1. Sabhi answer sahi nahi hai janab Allah pak ne pyare rasul sal… Ko achchhe bebohar ke liye nahi
    Balki pura kaynat banane se phle pygamber banake sristi kiya hai
    Aur bhi bahut kuchh likhna tha lekin………………………

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *