तीन घरों पर अ’ल्लाह का क’हर होता है, अ’ल्लाह को सख्त न’फरत है तीन घरों से…

अस्सलाम वालेकुम मेरे प्यारे भाइयों और बहनों ,हम उम्मीद करते हैं कि आप सभी खैरियत से होंगे और अल्लाह आप पर अपनी रहमत की नजर बनाए रखें। दोस्तों आज हम आपको बताएंगे ऐसे तीन घरों के बारे में जो अल्लाह को बिल्कुल पसंद नहीं है। तो आइए हम आपको बताते हैं कि वह तीन घर कौन-कौन से हैं? एक बार हजरत अली खुत्बा पढ़ रहे थे खुतबे में हजरत अली ने कहा कि तीन घर ऐसे हैं जिन पर अल्लाह का कहर कभी भी नाज़िल हो सकता है ।अल्लाह को सख्त नफरत है ऐसे 3 घरों से.

सबसे पहला घर वह है जिसमें औरत की आवाज मर्द की आवाज से तेज हो जाए। ऐसे घर को 70000 फरिश्ते पूरा दिन कोसते रहते हैं, नंबर दो, जिस घर में किसी के हक का मारा हुआ पैसा जमा किया गया हो और उसी मारे हुए पैसे से उस घर की रोशनी और तकब्बुर का इंतजाम किया गया हो.

google

नंबर 3 ,जिस घर के लोगों को मेहमानों का आना पसंद ना हो। हजरत जिब्राइल अली सलाम फरमाते हैं कि उस घर की नमाज का सवाब फरिश्ते नहीं लिखते हैं जिस घर में मेहमानों के आने से लोगों को परेशानी होती है। मेरे भाइयों रात को जब कुत्ता भौंक्ता है तो उस वक्त अल्लाह से पनाह मांगो क्योंकि कुत्ते या बेजुबान जानवर वह मखलूक देख सकते हैं जिन्हें हम इंसान नहीं देख सकते हैं.

जब भी रात को दरवाजा बंद करें तो बिस्मिल्ला पढ़ कर बंद करें। क्योंकि जिस घर के दरवाजे बिस्मिल्लाह पढ़कर बंद होते हैं उस घर में शैतान अंदर नहीं आ सकता है क्योंकि बिस्मिल्लाह पढ़कर बंद किए गए दरवाजे को शैतान खोल नहीं सकता है। मेरे भाइयों पानी के बर्तन को हमेशा ढक कर रखें खासतौर पर रात के वक्त। अच्छी और सुकून भरी नींद के लिए हमेशा दरूद पाक पढ़कर सोया करें.

google

मेरे भाइयों जो इंसान रात को सोते वक्त 21 मर्तबा पूरा बिस्मिल्लाह पढ़ कर सोता है अल्लाह पाक फरिश्तों से फरमाते हैं कि इस इंसान की हर सांस के बदले मे नेकी लिखो ।इसलिए मेरे भाइयों रात को हमेशा बिस्मिल्ला पढ़ कर सोया करो. एक हदीस में है कि जब तुम अपने बिस्तर पर जाओ तो सूरह फ़ातियह और सूरह एखलास पढ़ लिया करो ऐसा करने से मौत के अलावा हर चीज से बेखौफ हो जाओगे. मेरे भाइयों हज़रत अली ने फरमाया है कि हमेशा समझौता करना सीखो क्योंकि तूम्हारा थोड़ा सा झुक जाना किसी रिश्ते के हमेशा के लिए टूट जाने से बेहतर है.

इस पर आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया कि अगर किसी के सामने झुक जाने से तुम्हारी इज्जत घट जाए तो कयामत के रोज वह इज्जत तुम मुझसे ले लेना ,सुभान अल्लाह। दोस्तों हर अच्छी बात और हदीस आपके पास अमानत होती है और अमानत हो जितना जल्दी हो सके दूसरों तक पहुंचा देना चाहिए इसलिए मेरे भाइयों आप इन बातों को सुनकर सिर्फ अपने तक ही ना रखें बल्कि दूसरों तक भी पहुंचाएं उम्मीद है कि जिन जिन तक यह बातें पहुंचेगी वे इस बात पर अमल करेंगे और अल्लाह उन्हें तौफीक देगा कि वह इस अमानत हो और लोगों तक पहुंचाएंगे.

One thought on “तीन घरों पर अ’ल्लाह का क’हर होता है, अ’ल्लाह को सख्त न’फरत है तीन घरों से…”

  1. main apse milna chahta Hoo Asouddin Obesi Ji….main purnia Bihar se Hoo seemanchal routa..921762260…plz sir sapport

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *