एक समय था जब अख़बार पढने के लिए ढाबे पर जाते थे, अब एक चपरासी का बेटा बना IPS

0
100
ads1
पीछे1 of 4
Use your ← → (arrow) keys to browse
ads2

ips officer noorul hasan success story in hindi

दोस्तों, यूपीएससी हर साल सिविल सेवा की परीक्षा कंडक्ट करती है, वैसे तो हम सब लोग जानते हैं, और हर एक साल उस परीक्षा द्वारा लगभर 50 से अधिक विद्यार्थी सफल होकर कोई आईएएस ऑफिसर तो कोई आईपीएस ऑफिसर बनकर बाहर आते हैं। लेकिन जब यूपीएससी ने 2015 में, परीक्षा आयोजित कराया तो उसमे से एक हीरा निकलकर सामने आया। उनका नाम था नुरूल हसन जो आज एक आईपीएस ऑफिसर हैं। उन्हे एक हीरा इसलिए कहा जा रहा है क्यूकी उनका जीवन कोयले की खदान तरह उतना ही कठिन और संघर्षपूर्ण रहा है। वो कहते है न की आग सोना जितना तपता है उतना ही उसमे निखार आता है। उनका बचपन बहुत गरीब परिवार मे बीटी जहा उन्हे रोज 2 रोटी भी खाना बहुत कस्टपूर्ण था। उन्हे एक मलिन झुग्गी बस्ती मे अपना बचपन व्यतीत करना पड़ा। उन्होने अपनी पढ़ाई की शुरुआत गाँव के ही एक सरकरकी हिन्दी मीडियम स्कूल मे से की। उनके पिता बरेली मे एक सरकारी कार्यालय मे पियोन रहें।

ads1
पीछे1 of 4
Use your ← → (arrow) keys to browse
ads2

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here