नामांकन रद्द होने के खिलाफ याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने लिया बड़ा फैसला- चुनाव आयोग बर्खास्त…

इस लोकसभा चुनाव में जो सीट पर सबसे ज़्यादा चर्चा हो रही है तो वो है बनरस की लोकसभा सीट जहाँ से इस देश के पीएम मोदी भी उम्मीदवार हैं और उनको सबसे ज्यादा अगर किसी से टक्कर मिल रही थी तो वो है तेज बहादुर यादव आपको बता दें कि तेज बहादुर यादव देश में उस वक़्त बहुत अम्श्हूर हुए थे जब उन्होंने सेना में रहते हुए सेना के खराब व्यवस्था की शिकायत की थी और इसको लेकर उन्होंने एक विडियो बना दी थी जो कि बहुत वायरल हुई थी लेकिन उनके इस कदम के बाद उन्हें सेना में से बर्खास्त कर दिया गया.

इसके बाद वो कुछ दिन गायब रहे लेकिन जब चुनाव का महल आया तो उन्होंने निर्दलीय दावेदारी पेश कर दी निर्दल उम्मीदवार के रूप में तो तेज बहादुर कुछ ख़ास प्रत्याशी नहीं लग रहे थे लेकिन इसके बाद उन्हें गठबंधन की तरफ से टिकट मिल गया और इसके बाद उनकी स्थिति बहुत मज़बूत हो गयी और आप ने भी अपना प्रत्याशी मैदान से हटा लिया.

अब इस बने माहौल का सीधा असर पीएम मोदी पर पड़ रहा था और उनकी सीट को लेकर तरह-तरह की चर्चाएँ होने लगी दरअसल मोदी को लेकर लोगो का अब ये कहना था कि अब इनका जीतना मुश्किल है लेकिन इसी के बाद तेज बहादुर यादव का नामांकन ही रद्द हो गया और उनको इलेक्शन लड़ने से मन कर दिया गया.

इसके बाद तेज बहादुर यादव ने सुप्रीमकोर्ट का रास्ता अख्तियार किया और उन्होंने उच्च न्यायालय में अपील की और कहा कि उनका नामांकन सही कारण से रद्द नहीं किया गया है इसपर सुप्रीमकोर्ट कोर्ट ने चुनाव आयोग से गुरुवार तक अपना पक्ष रखने का आदेश दिया है आपको ये भी बता दें कि अगर तेज बहादुर को फिर से चुनाव लड़ने की इजाज़त मिल जाती है तो बनारस का चुनाव देखने लायक होगा और वहां से पीएम मोदी को कड़ी टक्कर का सामना करना पड़ेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *