“Makeup लगाये ही मरना चाहता हूं”, तारक मेहता के नट्टू काका का निधन, करियर में देखे कई उतार-चढ़ाव

nattu kaka tmkoc battling from cancer died

‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ (Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah) भारतीय टेलीविज़न के सबसे लंबे समय से चलने वाले शोज़ में से एक है. इस सीरियल घनश्याम नायक, ‘नट्टू काका’ के रोल के लिये जाने जाते हैं. नट्टू काका जेठालाल की दुकान पर काम करते हैं और अपनी कॉमेडी से उन्होंने लाखों दर्शकों के दिल में जगह बनाई है.

3 अक्टूबर, 2021 शाम को घनश्याम का निधन हो गया. टीवी के पर्दे पर अपनी ग़ज़ब की अदाकारी से सबको हंसाने वाले नट्टू काका लंबे समय से कैंसर से जंग लड़ रहे थे. काम करने की उनकी लगन ऐसी थी कि कैंसर से जंग के दौरान भी वो शूटिंग के लिए सेट पर पहुंचे थे.

घनश्याम नायक कहते थे कि वो ज़िन्दगी के आख़िरी पल तक काम करना चाहते हैं और मेकअप लगाए हुए ही मरना चाहते हैं.

कुछ महीनों पहले दैनिक भास्कर से हुई बात-चीत में घनश्याम ने अपनी ज़िन्दगी, करियर के कुछ क़िस्से साझा किए. इंटरव्यू के दौरान उन्होंने बताया था कि इलाज की वजह से चार महीने तक वे शूटिंग से दूर रहे और वापसी होने के बाद उन्हें बेहद सुकून मिला.

Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah

लंबे समय से बीमारी से लड़ रहे थे

2021 के शुरुआत में घनश्याम को अपनी गर्दन पर कुछ धब्बे दिखे. इसके बाद उनके कैंसर का इलाज दोबारा शुरू हुआ. 2020 में घनश्याम की गले की सर्जरी हुई थी और 8 गांठें निकाली गईं थीं.

13 सालों तक तारक मेहता का उल्टा चश्मा से जुड़े रहे

नवभारत टाइम्स के एक लेख के अनुसार बीते 13 सालों से घनश्याम मशहूर कॉमेडी शो, तारक मेहता का उल्टा चश्मा के साथ जुड़े रहे. ये किरदार बच्चे, बड़े, बूढ़े सबके दिल में उतर गया था.

Taarak Mehta

“हैं, मुझे कुछ कहा?” डायलॉग शायद ही कभी दर्शकों के मन से निकले.

ghanshyam nayak

7 साल की उम्र में रखा था अभिनय की दुनिया में क़दम

कहते हैं पूत के पांव पालने में ही दिख जाते हैं, घनश्याम और एक्टिंग का नाता कुछ कुछ ऐसा ही था. बहुत कम लोग ये जानते होंगे कि घनश्याम ने सिर्फ़ 7 साल की उम्र से ही अभिनय शुरू कर दिया था.

मासूम (1960) में उन्होंने बतौर बाल कलाकार अपना जौहर दिखाया. इसके अलावा उन्होंने ‘तेरे नाम’, ‘चोरी चोरी’, ‘खाकी’ और ‘हम दिल दे चुके सनम’ जैसी फ़िल्मों में भी काम किया.

Taarak Mehta

करियर में कई उतार-चढ़ाव देखे

घनश्याम ने अपने करियर में कई उतार-चढ़ाव देखे. तक़रीबन 350 हिन्दी टीवी सीरियल और 200 से ज़्यादा गुजराती एवं हिन्दी फ़िल्में करने वाले घनश्याम ने ताउम्र संघर्ष किया. गुजराती थियेटर का भी नामचीं चेहरा थे घनश्याम. घनश्याम इलाज के दौरान अपने गांव गए थे और वहीं से उन्होंने तारक मेहता का उल्टा चश्मा का एक सीन शूट किया था.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *