नास्त्रेदमस-बाबा वेंगा की 2022 के लिए भयावह भविष्‍यवाणियां, सच हुईं तो मचेगी तबाही

महान भविष्‍यवेत्‍ता नास्‍त्रेदमस और बाबा वेंगा ने सैंकड़ों भविष्‍यवाणियां की हैं और उन दोनों की ही औसतन 75 फीसदी भविष्‍यवाणियां सच भी हुई हैं. 2022 के लिए भी उन्‍होंने दुनिया से जुड़ी कुछ भविष्‍यवाणियां की हैं. ये भविष्‍यवाणियां दिल दहलाने वाली हैं क्‍योंकि इनमें से एक भविष्‍यवाणी का सच होना भी तबाही लाने के लिए काफी है.


नई दिल्‍ली: दुनिया के सबसे महान भविष्‍यवेत्‍ता नास्‍त्रेदमस और बाबा वेंगा ने ढेरों भविष्‍यवाणियां की हैं और उनमें से कई सच भी हो चुकी हैं. ये भविष्‍यवाणियां ऐसी हैं जिन्‍होंने दुनिया को उलट-पुलट कर रख दिया, फिर चाहे वह हिटलर के शासन, द्वितीय विश्व युद्ध, 9/11 के आतंकी हमले, फ्रांस की क्रांति, परमाणु हथियार के व‍िकास से जुड़ी हों या प्राकृतिक आपदाओं, महामारी के कारण लाखों लोगों के मरने की हों. साल 2022 के लिए भी इन दोनों भविष्‍यवेत्‍ताओं ने खतरनाक भविष्‍यवाणियां की हैं. यदि ये भविष्‍यवाणियां सच हुईं तो देश-दुनिया में खतरनाक हालात पैदा हो जाएंगे.

news photo 1

इस साल की सबसे चिंताजनक भविष्‍यवाणियां

– नास्त्रेदमस के मुताबिक साल 2022 में दुनिया की बेहद प्रभावशाली और ताकतवर शख्सियत की मौत का अंदेशा जताया गया है. साथ ही कहा गया है कि इस शख्‍स की अचानक मौत से एक नया चेहरा उभरकर सामने आएगा और उसकी जगह लेगा.

– बुल्‍गारिया की दृष्टिहीन फकीर बाबा वेंगा के मुताबिक 2022 में एक भयानक महामारी आएगी जो कई जानें लेगी. साथ ही उन्‍होंने इस साल में दुनिया में कई प्राकृतिक आपदाएं आने की भी बात कही है. ये आपदाएं भीषण बाढ़ या सुनामी के रूप में आ सकती हैं. वहीं नास्‍त्रेदमस ने 2022 में जापान में भयंकर भूकंप आने की बात कही है. साथ ही कहा है कि यदि यह भूकंप दिन में आता है बेजा तबाही लाएगा.

– बाबा वेंगा ने साइबेरिया में बर्फ में दबे वायरस की वैज्ञानिकों द्वारा खोज करने की भी भविष्‍यवाणी की है. – 2022 में दुनिया के कई देशों में पानी का संकट गहराएगा जो मानव जीवन के लिए बड़ी चुनौती साबित होगा. – नास्‍त्रेदमस ने साल 2022 में यूरोप में युद्ध जैसे हालात पैदा होने, भुखमरी और अराजकता के कारण लोगों की जानें जाने की भविष्‍यवाणी की है. – नास्‍त्रेदमस ने यूरोप और यूके में प्रवासियों के संकट और उसके बड़े राजनीतिक मुद्दे बनने की भी चेतावनी दी है. यह स्थितियां हिंसा, युद्ध और सशस्त्र संघर्ष को बढ़ाएंगी.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. india hindi NEWS इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *