130 बीवियों का अकेला पति था ये मौलवी, मौत के बाद भी पैदा हो रहे थे बच्चे, जानिए वजह !

one husband of 130 wives kids

दोस्तों संसार में बहुत सारी

ऐसी घटनाएं घटती हैं जिनको सुनकर और देखकर उन पर विश्वास नहीं होता है परंतु लोग अपने जीवन को अपने तरीके से जीना पसंद करते हैं और ऐसे काम कर देते हैं कि वह दुनिया में चर्चा का विषय बन जाते हैं. यह किस्सा एक ऐसे आदमी का है जिसकी 130 बीवियां और 203 बच्चे हैं कहते है छोटा परिवार, सुखी परिवार।’ यहां छोटे परिवार से तात्पर्य एक बीवी और दो बच्चों से है।

परंतु इस शख्स इस कहावत से दूर-दूर तक कोई लेना देना नहीं है,यह किस्सा नाइजीरिया कहां है जहां पर इस शख्स ने एक छोटा सा गांव बसा लिया अपने ही परिवार का, नाइजीरिया में रहने वाले एक मौलवी मोहम्मद बेल्लो अबूबकर नाम के इस मौलवी की साल 2017 में मौत हो गई थी। हालांकि इस समय वह एक बार फिर चर्चा में आया है।

one husband of 130 wives kids 1

मोहम्मद बेल्लो अबूबकर

की मौत के बाद भी उनके कुछ बच्चे हुए। दरअसल मौत के समय उनकी कई बीवियां गर्भवती थी। यह मौलवी अपने पूरे परिवार के साथ तीन मंजिला एक मकान में रहता था। खास बात यह थी कि इतनी सारी पत्नियां होने के बावजूद इनके बीच कभी कोई लड़ाई नहीं होती थी। ये सभी शांति से रहते थे। अबू बकर को कोई बीमारी नहीं थी

अचानक से ही उनका निधन हो गया कि जिन से पहले उन्होंने अपने पूरे परिवार से बातचीत भी की, अपने जीवन में उन्हें शादियों को लेकर बहुत विरोधियों का सामना भी करना पड़ा लोगों का कहना था कि केवल चार पत्नियों को रखें उन्हें अपनी सभी पत्नियों को तलाक दे देना चाहिए परंतु उन्होंने ऐसा नहीं किया और आज वह फिर एक बार चर्चा में हैं,

अपनी 130 बीवियों में

से 10 के साथ उसका तलाक भी हो गया था। एक इंटरव्यू में मौलवी ने कहा था कि वह स्वयं शादी नहीं करना चाहता है लेकिन उसकी शादियां अपने आप होती चली जाती है। अबूबकर ने यह भी कहा था कि आमतौर पर लोग 10 बीवियों से ही परेशान हो जाते हैं,

लेकिन अल्लाह मुझे 130 बीवियां संभालने के काबिल समझता है, इसलिए उसने मेरी किस्मत में यह लिखा.उदल की बीवियों का भी यही कहना था कि वह अपने पति के साथ बहुत खुश थी और उनमें एक चमत्कारी बात थी कि कोई उन्हें शादी के लिए मना नहीं कर सकता था, आज भी उनकी सभी पत्नियां और बच्चे उसी घर में एक साथ रहते हैं !

one husband of 130 wives kids

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *