पारले जी पर बनी ये छोटी बच्ची अब दिखती है ऐसी, देखकर आश्चर्य में पड़ जाएंगे ..

बचपन के दिनों में आपने कभी ना कभी

तो पारले जी बिस्कुट जरूर खाया होगा। अगर आपने इस बिस्किट को खाया होगा तो आपको यह बात याद होगी कि इस बिस्किट के पैकेट पर एक लड़की की तस्वीर छपी हुई हुआ करती थी। बिस्किट के पैकेट पर छपी लड़की की वह तस्वीर बचपन से बड़े होने तक बिल्कुल एक समान ही थी। पर क्या आपको यह बात मालूम है कि पारले जी की बिस्किट के पैकेट पर किस लड़की की तस्वीर छपी होती थी। अगर आपको नहीं पता तो चलिए आज हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से उस लड़की के बारे में बताने वाले हैं। हम आपको बताएंगे कि पारले जी के पैकेट पर बनी छोटी सी क्यूट बच्ची आज दिखने में कैसी नजर आती है।

अगर बात पारले जी कंपनी की करें तो

इस कंपनी की शुरुआत वर्ष 1929 में हुई थी। वर्ष 1929 में इस कंपनी की शुरुआत होने के बावजूद पारले जी ने बिस्किट बनाने की शुरुआत 1940 से की। वर्ष 1940 से पारले जी बिस्किट बनाने की शुरुआत करने वाली इस कंपनी के बिस्किट को बच्चों के द्वारा काफी ज्यादा पसंद किया जाने लगा। बच्चों की पसंदीदा बिस्किट बनने की वजह से इस कंपनी का कारोबार काफी तेजी से फैला परंतु वक़्त के बदलने के साथ ही आज यह कंपनी काफी हद तक पारले जी बिस्किट के प्रोडक्शन को कम कर चुकी है।

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि पारले जी

के पैकेट के ऊपर जिस बच्ची की तस्वीर छपती थी उस बच्ची का नाम नीरू देशपांडे बताया जाता हैं। नागपुर की रहने वाली नीरू देशपांडे की 4 साल की उम्र की वह तस्वीर पाली जी के पैकेट के ऊपर छपती थी। आज नीरू देशपांडे की उम्र लगभग 65 साल हो चुकी है। 65 साल की उम्र में नीरू देशपांडे काफी ज्यादा बदल चुकी है।

ऐसा बताया जाता है कि 4 वर्ष की उम्र में

पहली बार उनके पिता ने पारले जी कंपनी को उनकी एक तस्वीर भेजी थी और उनकी इस तस्वीर को पारले जी कंपनी ने सिलेक्ट कर लिया। इसके बाद से ही उनकी तस्वीर को पारले जी के पैकेट के ऊपर छापने की प्रक्रिया की शुरुआत हुई। अब तक के इतिहास में यह पहली बार हुआ है कि किसी ब्रांड ने काफी लंबे वक्त तक एक ही बच्चे की तस्वीर का इस्तेमाल कर कंपनी का एडवर्टाइजमेंट किया हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *