पीएम मोदी बोले- 5 साल की अवधि ज्यादा तो नहीं, ‘धन’ फॉर्म्युले से करें गांवों का विकास

pm modi live in mandla

भोपाल. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के पंचायत प्रतिनिधियों को सलाह दी है कि वह अपने 5 साल के कार्यकाल में गांव के लिए ऐसा कुछ कर जाएं, जिसकी वजह से आने वाली पीढ़ियां उन्हें याद रखें। दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस के मौके पर मंडला में आयोजित एक सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। पीएम मोदी ने सुझाव दिया कि पंचायत प्रतिनिधि छोटी-छोटी बातों पर ध्यान दें, जिससे गांव का समग्र विकास हो सके। इसके साथ ही पीएम ने गांवों की अर्थव्यवस्था को बदलने के लिए तीन धन का फॉर्म्युला भी दिया।

पीएम मोदी ने कहा, ‘मैं आपसे छोटी-छोटी बातें करना चाहता हूं। मसलन जब खेती की बात की जाए तो इस बात का खास ख्याल रखना चाहिए कि जिस जमीन पर हम खेती कर रहे हैं उसकी उपजाऊ शक्ति कितनी है। उसमें कौन सी खाद का इस्तेमाल किया जाए और कौन सी खाद ना डाली डाए।’ उन्होंने मधुमक्खी पालन और बांस की खेती को रोजगार के तौर पर विकसित करने का सुझाव दिया। इसके साथ ही पीएम ने यह भी कहा कि अब सरकार ने बांस पेड़ की श्रेणी से हटाकर घास की श्रेणी में कर दिया है।

तीन ‘धन’ का बताया फॉर्म्युला

मंडला में आयोजित सम्मेलन में पीएम मोदी ने कहा, ‘मैं इस मौके पर तीन धन की बात करूंगा। पहला जन-धन, दूसरा वन-धन और तीसरा गोबर-धन। इन्हीं तीनों से गांव की अर्थव्यवस्था में बड़ा बदलाव लाया जा सकता है। प्रधानमंत्री ने अपने 45 मिनट के भाषण में ऐसे उपाय गिनाए जिनके लिए अलग से बजट की जरूरत नहीं है। लोग आपस में मिलकर ही इन्हें अपना सकते हैं। गांव का विकास कर सकते हैं।’

पीएम बोले-….जीना तो शान से और मरना तो संकल्प से 

प्रधानमंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि 5 साल की अवधि बहुत ज्यादा नहीं होती लेकिन इस अवधि के दौरान सही समय पर सही काम करके 5 साल के कार्यकाल को स्वर्णिम काल बनाया जा सकता है। उन्होंने दोहराया कि हमें महात्मा गांधी के सपनों का भारत बनाना है। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि 2022 में आजादी के 75 साल पूरे हो रहे हैं तब तक हमें गांव की तस्वीर बदलनी है। इस मौके पर प्रधानमंत्री ने एक नारा भी दिया ‘जीना तो शान से और मरना तो संकल्प से।

 

पीएम मोदी के साथ ये दिग्गज रहे मौजूद

इस कार्यक्रम में मध्य प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय पंचायत राज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, पंचायत राज्य मंत्री पुरुषोत्तम रुपाला तथा मध्य प्रदेश के पंचायत मंत्री गोपाल भार्गव के अलावा त्रिपुरा के मुख्यमंत्री उपमुख्यमंत्री देव विष्णु देव वर्मा भी मौजूद थे। प्रधानमंत्री ने मंच से देव वर्मा का परिचय कराया। इस मौके पर उन्होंने ग्रामीण विकास से जुड़ी कई योजनाओं का शुभारंभ भी किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *