कोरोना काल में गई नौकरी, असिस्टेंट प्रोफेसर को जूट कला ने बनाया आत्मनिर्भर

0
30
ads1
पीछे1 of 4
Use your ← → (arrow) keys to browse
ads2

भोपाल। भोपाल की जरी और जूट कला बाजार के महंगे और ब्रांडेड प्रोडक्ट को टक्कर दे रही है। वोकल फॉर लोकल और आत्मनिर्भर भारत के तहत भोपाल के हैंडमेड और हैंडिंक्राप्ट आइटम देश-विदेश में पहचान बना रहे हैं। राजधानी में रविवार से शुरू हुई राग भोपाली प्रदर्शनी की जरी और जूट कला की चमक भी इसे बता रही है। भोपाल के कई कलाकारों ने अपनी शानदार कला से राग भोपाली को सजाया है, जिसकी तारीफ सीएम शिवराज सिंह ने भी की। यहां जरी की साडिय़ां, सलवार सूट समेत जूट से सजे झूले, फर्नीचर और शानदार कलाकृतियां देखने को हैं।

ads1
पीछे1 of 4
Use your ← → (arrow) keys to browse
ads2

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here