रायपुर : रमन के गोठ की 33वीं कड़ी : विकास यात्रा जनता के प्रति जवाबदेही की जीती-जागती मिसाल : डॉ. रमन सिंह

रायपुर. मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज सवेरे आकाशवाणी के रायपुर केन्द्र से प्रसारित अपनी मासिक रेडियोवार्ता ’रमन के गोठ’ की 33वीं कड़ी में प्रदेश व्यापी विकास यात्रा का विशेष रूप से उल्लेख किया। उन्होंने कहा-विकास यात्रा जनता के प्रति सरकार की जवाबदेही की जीती-जागती मिसाल है।

मुख्यमंत्री की रेडियो वार्ता का प्रसारण राज्य के सभी आकाशवाणी केन्द्रों और कई टेलीविजन तथा एफ.एम. समाचार चैनलों द्वारा किया गया।     डॉ. रमन सिंह ने रेडियो श्रोताओं से कहा-एक जमाना था, जब लोग चुनाव होने के बाद नेता, मंत्री और मुख्यमंत्री आदि को खोजा करते थे। चुनाव जीतने वाला लौट के अपने मतदाताओं से भी नहीं मिलता था, लेकिन जबसे मैंने छत्तीसगढ़ में सरकार की बागडोर संभाली, तब से मेरा बड़ा सिद्धांत था-जनता से निकटता और जवाबदेही। मुख्यमंत्री निवास में जनदर्शन, ग्राम सुराज अभियान, नगर सुराज अभियान, किसान महोत्सव, बोनस तिहार जैसे अनेक तरीकों से मैंने और मेरी सरकार ने ज्यादा से ज्यादा समय जनता के बीच गुजारा। मैंने तय किया था कि मुख्यमंत्री निवास के दरवाजे हमेशा जनता के लिए खुले रहेंगे और मुझे यह कहते हुए खुशी है कि यह सब करने में हम सफल हुए। मैंने यह तय किया कि हम जो कहेंगे वो करेंगे और उसकी पूरी जिम्मेदारी लेंगे। हमने जनता से पूछकर जनता की उम्मीदों और आकांक्षाओं को जानकर और समझकर विकास के काम किए। इसलिए जब हमारा कार्यकाल पूरा होने लगता है, तो हम जनता का सामने करने का साहस रखते हैं। विकास यात्रा इसी जवाबदेही की एक जीती-जागती मिसाल है।

इस वजह से की दंतेवाड़ा से विकास यात्रा की शुरूआत

मुख्यमंत्री ने विकास यात्रा की शुरूआत दंतेवाड़ा से करने के कारणों पर प्रकाश डालते हुए कहा-छत्तीसगढ़ में दक्षिण बस्तर के विकास को सर्वाधिक प्राथमिकता देने की शुरू से ही हमारी रणनीति है। पहले सघन वनों से घिरे और दुर्गम अंचलों में अनेक कारणों से विकास की किरणें नहीं पहुंच पायी थी, जिसका लाभ स्वार्थी और विकास विरोधी तत्वों ने उठाया था। हमने विगत 14 वर्षों में स्पष्ट नीति, स्पष्ट नजरिए, स्पष्ट योजनाओं और स्पष्ट लक्ष्यों के साथ बस्तर को ऐसे सम्पर्कों से जोड़ा है कि यह अंचल ’टापू’ न रह जाए। आज बस्तर न सिर्फ छत्तीसगढ़ के अन्य शहरों से बल्कि पड़ोसी राज्यों से भी शानदार सड़क मार्गों से और बारहमासी बड़े पुलों से जुड़ गया है। बस्तर को रेल मार्ग से जोड़ने और इसका लाभ जनता को दिलाने के प्रयास सफल हो रहे हैं। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 14 अप्रैल को बीजापुर जिले के प्रवास के दौरान भानुप्रतापपुर से दुर्ग तक रेल सेवा का शुभारंभ किया। इस तरह गुदुम से भानुप्रतापपुर  तक रेल लाइन और रेल्वे स्टेशन की शुरूआत इस बात का सुखद संकेत है कि अगले तीन-चार वर्ष में दल्लीराजहरा-रावघाट-जगदलपुर रेल नेटवर्क का निर्माण पूरा हो जाएगा। इतना ही नहीं, बल्कि बस्तर को नियमित विमान सेवाओं से जोड़ने के लिए जगदलपुर हवाई अड्डे का विकास पूरा हो गया है।

बस्तर को अब कोई भी ताकत नहीं बना पाएगी सम्पर्क विहीन

उन्होंने कहा-बस्तर संभाग के सभी सात जिलों में इंटरनेट कनेक्टिविटी के लिए ’बस्तर नेट’ परियोजना का काम भी पूर्णता की ओर है, जिसके प्रथम चरण का उद्घाटन प्रधानमंत्री द्वारा किया गया था। यह 836 किलोमीटर का रिंग टाइप ऑप्टिकल फाईबर नेटवर्क इस बात का प्रतीक है कि बस्तर को अब कोई भी ताकत कभी सम्पर्क विहीन नहीं बना पाएगी। सड़क, रेल और वायु मार्ग के अलावा यह कनेक्टिविटी बस्तर को ज्ञान और रोजगार के नये अवसरों से भी सम्पन्न कर देगी। बस्तर अब ’टापू’ नहीं रहा, बल्कि यह हर तरह से और हर तरफ से जुड़ गया है, जिससे निश्चित तौर पर बस्तर की तकदीर और तस्वीर बदल जाएगी। यही वजह है कि मैंने विकास यात्रा की शुरूआत के लिए दंतेवाड़ा को चुना है, ताकि बस्तर को लेकर सारे भ्रांतियों का समापन हो जाए और दुनिया यह जान सके कि बस्तर की विकास यात्रा रफ्तार पकड़ चुकी है।

आयुष्मान भारत में छत्तीसगढ़ के 45 लाख परिवारों को मिलेगी स्वास्थ्य बीमा सुरक्षा

उन्होंने ’रमन के गोठ’ में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की आयुष्मान भारत योजना का उल्लेख करते हुए कहा-इस योजना के तहत छत्तीसगढ़ के लगभग 45 लाख परिवारों को पांच लाख रूपए तक स्वास्थ्य बीमा का लाभ मिलेगा। छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा राज्य के 56 लाख परिवारों को वार्षिक 50 हजार रूपए तक निःशुल्क इलाज की सुविधा दी गई है, जिसमें वरिष्ठ नागरिकों को और पत्रकारों को 80 हजार रूपए तक इसकी सुविधा मिलेगी।

स्किल केपिटल और विकासगड़ी के रूप में बनी जशपुर की पहचान

उन्होंने रेडियो श्रोताओं को यह भी बताया कि राज्य के उत्तरी अंचल या सरगुजा संभाग को इस बात का श्रेय जाता है कि वहां से नक्सलवाद के खात्मे की शुरूआत हुई। बहुत विस्तृत इस संभाग में प्रशासनिक कसावट के लिए दो नये जिलों-बलरामपुर-रामानुजगंज और सूरजपुर का गठन किया गया। सरगुजा में विश्वविद्यालय, इंजीनियरिंग कॉलेज, मेडिकल कॉलेज, लाइवलीहुड कॉलेज आदि के माध्यम से शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाओं सहित रोजगार सृजन में तेजी आयी है। डॉ. रमन सिंह ने कहा-इस संभाग के जशपुर जिले में पहले मानव तस्करी बहुत बड़े पैमाने पर होती थी। लोग काम की तलाश में दूसरे प्रदेशों में जाते थे, या उन्हें ले जाया जाता था, लेकिन आज जशपुर जिला स्किल केपिटल (कौशल राजधानी) के रूप में और ’विकासगड़ी’ के रूप में अपनी नई पहचान बनाने में सफल हुआ है, जहां विगत तीन वर्ष में 25 हजार से ज्यादा युवाओं को कौशल उन्नयन का प्रशिक्षण दिया गया और इनमें से 20 हजार लोगों के प्लेसमेंट में भी सफलता मिली। उन्होंने दावे के साथ कहा कि हमारा छत्तीसगढ़ यदि ’विकासगढ़’ बना है तो जशपुर जिला ’विकासगड़ी’। इसमें किसी को भी कोई संदेह नहीं होना चाहिए।

डॉ. सिंह ने कहा-इनमें से कुछ लोगों से मेरी फोन पर बात भी हुई है, जो बताते हैं कि वे अपनी जिन्दगी में आए बदलाव से बहुत खुश हैं। जशपुर के गांवों से निकले युवा बेंगलूरू, मुम्बई, पुणे और हैदराबाद आदि महानगरों में काम कर रहे हैं। डॉ. रमन सिंह ने जशपुर जिला प्रशासन द्वारा जिला खनिज न्यास संस्थान (डीएमएफ) की राशि से संचालित संकल्प संस्था की भी तारीफ की। उन्होंने रेडियोवार्ता में कहा कि इस संस्था के माध्यम से इस वर्ष 71 बच्चों ने संयुक्त इंजीनियरिंग मुख्य प्रवेश परीक्षा (जेईई-मेंस) में सफलता हासिल की है, जो अब आईआईटी और एनआईटी आदि संस्थाओं में प्रवेश लेंगे। डॉ. रमन सिंह ने आदिम जाति विकास विभाग द्वारा मुख्यमंत्री बाल भविष्य सुरक्षा योजना के तहत संचालित प्रयास आवासीय विद्यालयों के बच्चों का भी उल्लेख किया और कहा कि प्रयास संस्थाओं में बच्चों को राष्ट्रीय स्तर की परीक्षाओं के लिए शिक्षित-प्रशिक्षित किया जाता है। इस वर्ष प्रयास विद्यालयों से 112 युवाओं को सफलता मिली है, जिनमें अम्बिकापुर प्रयास विद्यालय के 16 बच्चे भी शामिल हैं। यही वजह है कि अब जशपुर में भी प्रयास विद्यालय खोलने का निर्णय लिया गया है।

यूपीएससी में सफल युवाओं ने बढ़ाया छत्तीसगढ़ का गौरव

मुख्यमंत्री ने इस वर्ष संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) के नतीजों में छत्तीसगढ़ के युवाओं को बड़ी संख्या में सफलता मिलने पर भी रेडियोवार्ता में प्रसन्नता व्यक्त की। उन्होंने इनमें से गरियाबंद जिले के देवेश कुमार ध्रुव, सूरजपुर जिले के उमेश कुमार गुप्ता, दुर्ग की अंकिता शर्मा, महासमुन्द के योगेश पटेल, रायगढ़ जिले के अजय चौधरी और कोरबा जिले के सुरेश कुमार जगत की सफलताओं को जिक्र करते हुए कहा कि इनकी सफलता ने छत्तीसगढ़ को भी गौरवान्वित किया है। डॉ. रमन सिंह ने विशेष रूप से जशपुर जिले के जितेन्द्र यादव की सफलता की चर्चा करते हुए रेडियो श्रोताओं को बताया कि जितेन्द्र पत्थलगांव से छह किलोमीटर दूर ग्राम पाकरगांव के निवासी हैं, जिनके पिता किसान हैं और बड़े भाई शिक्षाकर्मी हैं। जितेन्द्र की प्रारंभिक शिक्षा पाकरगांव के सरस्वती शिशुमंदिर में हुई और उन्होंने पशुचिकित्सक के रूप में अपने कैरियर की शुरूआत की थी।

डॉ. रमन सिंह ने कहा-ये उदाहरण बताते हैं कि जशपुर जिले में ’विकासगड़ी’ के रूप में अपनी नयी पहचान बना ली है। उन्होंने कहा-विकास के हर पैमाने पर जशपुर जिला ’विकासगड़ी’ बना है। डॉ. सिंह ने इसकी तुलना में वर्ष 2003 से करते हुए कहा कि जशपुर जिले में स्कूल 1852 से बढ़कर 2194, कॉलेज दो से बढ़कर 12, आईटीआई एक से बढ़कर छह, कौशल विकास केन्द्र शून्य से बढ़कर 73, आश्रम शालाएं और छात्रावास 97 से बढ़कर 168, आंगनबाडी 1053 से बढ़कर 4305, पुल-पुलिया 707 से बढ़कर 1076 और हैण्डपम्पों की संख्या 7990 से बढ़कर 15,759 हो गयी हैं। इसी तरह वहां सड़कों की लम्बाई 1856 किलोमीटर से बढ़कर तीन हजार किलोमीटर, ग्रामीण सड़कों की लम्बाई 1369 से बढ़कर 2595, विद्युतीकृत गांवों की संख्या 603 से बढ़कर 729, विद्युतीकृत बसाहटों की संख्या 4033 से बढ़कर 4725 और कुटीर उद्योगों की संख्या 1256 से बढ़कर 2031 तक पहुंच गई है।

कौशल उन्नयन में जशपुर अव्वल

उन्होंने कहा-विभिन्न प्रयासों का यह परिणाम है कि जशपुर जिले में कुपोषण की दर 43 प्रतिशत से घटकर 27 प्रतिशत रह गई है, जबकि संस्थागत प्रसव 7 प्रतिशत से बढ़कर 97 प्रतिशत हो गया है। डॉ. रमन सिंह ने कहा-प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की पहल पर शुरू की गई परियोजनाओं की बात करूं, तो जशपुर जिला कौशल उन्नयन में प्रदेश में अव्वल है और वहां भारत का पहला फाल्स सिंलिंग और ड्राईवाल ट्रेनिंग सेंटर खोला गया है। सरगुजा संभाग का पहला काजू प्रसंस्करण केन्द्र जशपुर में खोला गया है। जशपुर के जिला अस्पताल को ’काया-कल्प’ के लिए प्रदेश में पहला पुरस्कार मिला है। रेशम की खेती (सेरीकल्चर) और धागाकरण में जशपुर जिला अव्वल है, जिसमें महिलाओं को बड़े पैमाने पर रोजगार मिलता है। उज्ज्वला योजना के तहत वहां एक लाख 10 हजार से ज्यादा रसोई गैस कनेक्शन दिए गए हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के तहत जिले में 28 हजार 212 के लक्ष्य के विरूद्ध 24 हजार मकानों का निर्माण पूरा कर लिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *