हवा में ख़राब हो गया था रतन टाटा के प्लेन का इंजन, फिर भी ऐसे करवाई सेफ़ लैंडिंग

ratan tata nearly crashed an aeroplane somehow managed safe landing

रतन टाटा, एक ऐसे बिज़नेसमैन जो लाखों लोगों के Icon और प्रेरणास्त्रोत हैं. Tata Group के Chairman Emeritus रतन टाटा की जीवनी से हर कोई कुछ न कुछ सीख सकता है. चाहे वो कंपनी को आसमान की ऊंचाइयों से भी आगे पहुंचाना हो या समाज के बेसहारों की मदद करना हो ये कंपनी हर क्षेत्र में आगे ही रहती है.

रतन टाटा देश के युवाओं के लिए प्रेरणा स्रोत है। यह कहना गलत नहीं होगा कि रतन टाटा की जीवन से हर कोई कुछ ना कुछ शिक्षा हासिल कर सकता है। चाहे वह अपनी कंपनी को आसमान की ऊंचाइयों तक पहुंचाना हो या फिर सामाजिक कामों में अपना योगदान देना। रतन टाटा हर क्षेत्र में आगे रहे।

आपको बता दें कि देश के प्रतिष्ठित उद्योगपति रतन टाटा ने शादी नहीं की है। उन्होंने एक इंटरव्यू के दौरान बताया था कि वह 4 बार शादी करते करते रह गए। इसके साथ ही रतन टाटा कई कामों में और भी महारत हासिल कर चुके हैं। जैसे कि 17 साल की उम्र में उन्होंने पायलट लाइसेंस लिया था। लेकिन इसके बारे में बहुत ही कम लोग जानते हैं।
इसके अलावा कुछ दिन पहले ही रतन टाटा ने पियानो सीखने की इच्छा जाहिर की थी। सोशल मीडिया पर इस बारे में जानकर लोगों में उनके प्रति सम्मान और भी ज्यादा बढ़ गया है। एक इंटरव्यू के दौरान उद्योगपति रतन टाटा ने बताया था कि पहली बार जब मैंने सर्किट ट्रेनिंग और लैंडिंग की प्रैक्टिस की थी। तो मुझे हेलीकाप्टर उड़ाना बहुत ही आसान लगा था। लेकिन दूसरी बार मैं अपने तीन सहपाठियों के साथ था।

जब हम लोग कॉर्नेल के आसपास उड़ रहे थे और एयरपोर्ट से 9 मील की दूरी पर थे। तो हमने बहुत ही मुश्किल से लैंडिंग की थी। रतन टाटा ने बताया कि कॉलेज के दिनों में हेलीकॉप्टर उड़ाते हुए वह बाल-बाल बचे थे। रतन टाटा ने बताया कि उन दिनों वह एक सिंगल इंजन हेलीकॉप्टर उड़ा रहे थे अचानक उसके इंजन में कुछ खराबी आ गई।

रतन टाटा ने बताया कि वह पानी के ऊपर हो रहे थे और जमीन के तौर पर उन्होंने बहुत ही मुश्किल से हेलीकॉप्टर की लैंडिंग करवाई। इसके अलावा रतन टाटा को किताबें पढ़ने का बहुत ज्यादा शौक है। उन्होंने बताया कि उन्हें लोगों की सक्सेस स्टोरीज पढ़ना बहुत अच्छा लगता है।

एक इंटरव्यू के दौरान रतन टाटा ने बताया था कि जब वह अपने काम से रिटायरमेंट ले लेंगे। तो उसके बाद वह अपना ज्यादतर समय किताबें पढ़ने के शौक को देंगे। इसके अलावा रतन टाटा को कारों और डॉग्स का भी काफी शौक है। यानी कि रतन टाटा कार लवर और डॉग लवर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *