सितंबर माह में शनिदेव की कृपा इन राशियों पर रहेगी

नई दिल्ली. सितंबर के महीने में शनि मकर राशि में वक्री होंगे। पिछले शनि की पांच राशियों पर दृष्टि रहेगी। शनि की वक्री गति के दौरान शनि की साढ़ेसाती और शनि की पीड़ा बढ़ सकती है। वर्तमान में शनि धनु, मकर और कुंभ राशि में चल रहा है, जबकि मिथुन और तुला राशियां शनि की चपेट में हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनि ग्रह अपनी राशि बदलने में करीब ढाई साल का समय लेता है।
सभी ग्रहों में इसकी चाल सबसे धीमी मानी जाती है। इसलिए शनि जब भी अपनी राशि बदलता है तो उसका प्रभाव लंबे समय तक रहता है। साल 2021 की बात करें तो शनि इस समय मकर राशि में गोचर कर रहे हैं और 5 राशियों पर इनकी दशा का प्रभाव बना हुआ है। लेकिन साल 2022 में शनि एक नहीं बल्कि 2 बार अपनी राशि बदलने जा रहे हैं। जानिए क्या है इसके पीछे की वजह और किन राशियों को शनि करेंगे प्रभावित। जानिए इन राशियों पर क्या होगा असर-

1. मिथुन- मिथुन राशि पर शनि ढैय्या का प्रभाव पड़ता है। इस माह शनिदेव आप पर कृपा करें। जिससे आपकी आर्थिक परेशानी दूर होगी। निर्णय लेने की क्षमता बढ़ेगी। इस अवधि में व्यापार में लाभ होगा। नौकरीपेशा लोगों को प्रमोशन मिल सकता है। इस दौरान अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें।
money


2. तुला- इस राशि के लोग शनि ढैया से प्रभावित होते हैं। सितंबर में आपकी आमदनी में वृद्धि होने की उम्मीद है। धन लाभ हो सकता है। इस दौरान वाद-विवाद से बचें। माह का अंतिम सप्ताह आर्थिक रूप से नुकसानदायक हो सकता है।

3. धनु – धनु राशि के जातकों के लिए शनि की चाल चल रही है। सितंबर का महीना आपके लिए खुशियां लेकर आया है। शनिदेव आपकी जन्म कुंडली के प्रापर्टी भाव में विराजमान हैं। जिससे आपका पैसा बचेगा। धार्मिक कार्यों में आपकी रुचि रहेगी। व्यापार में सफलता मिल सकती है।

4. मकर राशि- मकर राशि के जातकों के लिए शनि की साढ़ेसाती का दूसरा चरण चल रहा है. इस दौरान आपको अपनी सेहत का खास ख्याल रखना होगा। वाहन चलाते समय विशेष ध्यान रखें। शनि की स्थिति ठीक नहीं होने पर आर्थिक नुकसान हो सकता है।

5. कुम्भ- कुम्भ राशि के जातकों के लिए शनि की साढ़ेसाती का अंतिम चरण चल रहा है. इस बीच शनिदेव आपके दूसरे भाव में विराजमान होंगे। जिससे परिवार में किसी प्रकार की परेशानी हो सकती है। धन विवाद का कारण बन सकता है। कर्ज लेने का मौका मिल सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *