शिवसेना के एलान से भाजपा में ह’ड़कंप, कांग्रेस ने दिया ऑफ़र का..

मुंबई: सियासत एक ऐसी चीज़ है जिसमें कोई भी बात पूरे भरोसे से कहना बड़ा मुश्किल है. पीडीपी और भाजपा जैसे धुर विरो’धी पार्टियाँ जब जम्मू-कश्मीर में साथ आ गईं तो किसी को यक़ीन नहीं हुआ , ये बात और है कि बाद में ये गठबंधन टूट गया. यही वजह है कि शिवसेना और भाजपा में जब भी मतभेद उभरते हैं तो लोगों को लगता है कि कहीं अब कोई और नया गठबंधन तो नहीं बनने जा रहा है.

हाल में संपन्न महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के बाद से ही शिवसेना नेता कह रहे हैं कि मुख्यमंत्री आदित्य ठाकरे को होना चाहिए. दूसरी ओर भाजपा देवेन्द्र फडनवीस को मुख्यमंत्री बनाने के लिए तैयार बैठी है. ऐसे में भाजपा और शिवसेना के नेता जो बयान दे रहे हैं वो बहुत इम्पोर्टेन्ट भी है.अभी तक भाजपा इसी बात को समझ नहीं पायी है कि उसकी सीटें इतनी कम क्यूँ रह गईं. इस मामले को हैंडल भाजपा नेता कर पाते कि शिवसेना समर्थकों ने आदित्य ठाकरे को मुख्यमंत्री बनाए जाने की मांग करते हुए बैनर भी लगा दिए.

शिवसेना विधायक रमेश लटके मीटिंग खत्म होने के बाद कि सारे अधिकार उद्धव जी को दिये गए हैं. जो वो कहेंगे वही होगा. वहीं एक और शिवसेना विधायक प्रताप सरनाईक ने कहा कि बीजेपी जब तक लिखित में नही देगी तब तक शिवसेना सरकार में शामिल नहीं होगी. जो तय हुआ है 50 – 50 फार्मूला उसके तहत ढाई ढाई साल का मुख्यमंत्री होना चाहिए.

शिवसेना चाहती है कि उसका ही मुख्यमंत्री बने और इसके बिना वो सरकार में शामिल नहीं होने की बात अब खुले में कह रही है. शिवसेना नेता संजय राउत ने बाघ (शिवसेना का चिन्ह) का एक कॉर्टून ट्टिटर पर शेयर किया है, जिसके गले में घड़ी (एनसीपी का चुनाव चिन्ह) और हाथ में कमल का फूल (बीजेपी का चुनाव चिन्ह) है. महाराष्ट्र में एक और चर्चा यह भी है कि एनसीपी शिवसेना का समर्थन कर सकती है.

इस बीच कांग्रेस पार्टी ने भी बयान जारी कर भाजपा के लिए मुश्किल खड़ी कर दी है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता विजय वादेत्तिवर ने बयान दिया है कि हमारे पास विपक्ष का रोल है और हम उसे निभाएँगे लेकिन अगर कोई विकल्प बनता है तो शिवसेना को हमसे बात करनी चाहिए, अभी तक उन्होंने हमसे संपर्क नहीं किया है. उन्होंने कहा कि गेंद अभी भाजपा के पाले में है, अब ये शिवसेना को फ़ैसला करना है कि वो पाँच साल का मुख्यमंत्री चाहते हैं या भाजपा के रिस्पोंस का इंतज़ार करके 2.5 साल का मुख्यमंत्री चाहते हैं. उन्होंने कहा कि अगर शिवसेना का प्रपोज़ल आता है तो हम विचार करेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *