दिवाली-धनतेरस से पहले शुक्र ने बदली चाल, 5 राशि वाले होने जा रहे मालामाल

शुक्र 8 दिसंबर 2021 तक के लिए स्वराशि मकर में प्रवेश कर लिया है. दिवाली और धनतेरस जैसे त्योहारों से पहले शुक्र का यह राशि परिवर्तन बेहद खास माना जा रहा है. आइए जानते हैं शुक्र के इस गोचर से सभी राशियों के जातकों पर कैसा प्रभाव पड़ेगा.

सुखों के प्रदाता शुक्र का शनिवार, 30 अक्टूबर को राशि परिवर्तन हो गया है. शुक्र 8 दिसंबर 2021 तक के लिए स्वराशि मकर में प्रवेश कर चुके हैं. दिवाली और धनतेरस जैसे त्योहारों से पहले शुक्र का यह राशि परिवर्तन बेहद खास माना जा रहा है. आइए जानते हैं शुक्र के इस गोचर से सभी राशियों के जातकों पर कैसा प्रभाव पड़ेगा.

मेष (Aries): शुक्र मेष राशि के जातकों के लिए दूसरे और सातवें घर का स्वामी है. इस गोचर की अवधि में शुक्र आपके 9वें भाव में प्रवेश करेगा. आप आभूषणों से संबंधित व्यवसाय में हैं, तो आपको इस समय सफलता मिलेगी. नए व्यापार की संभावनाएं है और नए सौदे बन सकते हैं. इस समय आपका खर्च बढ़ सकता है क्योंकि आप अपनी भौतिक जरूरतों पर अपना पैसा खर्च करना चाहते हैं, ऐसा करने से आपका बजट प्रभावित हो सकता है, इसलिए आपको इस संबंध में सतर्क रहना होगा.

mesh rashi

वृषभ (Taurus): शुक्र वृषभ राशि का स्वामी है, यह वृषभ राशि के छठे घर का स्वामित्व भी करता है. यह वर्तमान गोचर में आपके आठवें घर में होगा. यह गोचर मिश्रित परिणाम लेकर आएगा. आप इस समय स्वास्थ्य समस्याओं से पीड़ित हो सकते हैं, साथ ही आप दुर्घटनाओं के शिकार होंगे. आपको अपने कार्यस्थल पर बहुत मेहनत करनी पड़ेगी, जिसे देखते हुए, आपका वरिष्ठ प्रबंधन आपके प्रयासों की सराहना करेगा. आप इस समय के दौरान अपने पुराने ऋण खत्म कर सकते हैं. पैतृक संपत्ति या ससुराल से आपको लाभ मिल सकता है.

मिथुन (Gemini): शुक्र, बुध का मित्र ग्रह है और मिथुन राशि के पांचवें घर और बारहवें घर की अध्यक्षता करता है, यह ग्रह इस अवधि के दौरान आपके सातवें घर में गोचर करेगा. वे लोग जो गंभीरता के साथ किसी रिश्ते में पड़ना चाहते हैं उनके लिए समय अच्छा है. इसलिए, यदि आप किसी से प्यार करते हैं तो अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए समय अनुकूल है. आप इस दौरान लंबी दूरी की यात्रा पर जा सकते हैं या अपने साथी के साथ अच्छा समय बिता सकते हैं.

कर्क (Cancer): शुक्र आपके चौथे और ग्यारहवें घर का स्वामित्व करता है. इस अवधि में शुक्र आपके छठे भाव यानि ऋण, रोगों और प्रतिस्पर्धा के चौथे घर में गोचर करेगा. आपको अपने परिवार के सदस्यों के साथ कुछ टकराव का सामना करना पड़ सकता है जो परिवार की शांति और खुशी को खराब करेगा. इस अवधि के दौरान वित्तीय दबाव या असुरक्षा महसूस कर सकते हैं और अपने प्रियजनों से अपने व्यय को पूरा करने के लिए पैसे उधार लेने के लिए मजबूर हो सकते हैं.

सिंह (Leo): शुक्र, आपके भाई-बहनों के तीसरे घर और करियर के 10वें घर को नियंत्रित करता है. इस गोचर की अवधि में शुक्र पंचम भाव में गोचर करेगा. जो लोग डिजाइनिंग और रचनात्मक उद्योग में हैं, उनके लिए अनुकूल अवधि होगी, आप उत्पादों और सेवाओं का सबसे अच्छा वितरण करने में सक्षम होंगे, साथ ही आपको अपने अच्छे काम के लिए वेतन वृद्धि मिल सकती है. यह आपके प्रेम जीवन को बेहतर बनाएगा.

कन्या (Virgo): कन्या राशि के जातकों के लिए शुक्र दूसरे और नौवें घर का स्वामी है और यह उनके घरेलू सुख, संपत्ति के चौथे घर में गोचर करेगा. इस अवधि के दौरान अपने परिवार के साथ आरामदायक और खुशहाल समय बिताएंगे. आप इस समय के दौरान संपत्ति खरीद सकते हैं, वाहन खरीदने के लिए भी उज्ज्वल अवसर हैं. जो लोग घर से काम कर रहे हैं, उनके लिए अनुकूल अवधि होगी, आपको अपनी मेहनत के लिए सराहना मिल सकती है.

तुला (Libra): शुक्र तुला राशि का स्वामी है और आपके अष्टम भाव पर भी यह स्वामित्व रखता है. इस गोचर की अवधि के दौरान यह आपके तृतीय घर में होगा. आप इस अवधि के दौरान प्यार और करुणा से भरे रहेंगे और अपने परिवार को खुश रखने के प्रयास करेंगे. दीर्घकालिक निवेश करने के लिए समय अनुकूल नहीं है. नौकरी पेशा लोग इस अवधि के दौरान स्थानांतरण प्राप्त कर सकते हैं या आप अपनी नौकरी बदल सकते हैं जिसके परिणामस्वरूप एक अलग स्थान पर आप जा सकते हैं.

वृश्चिक (Scorpio): शुक्र आपके बारहवें भाव और सप्तम भाव को नियंत्रित करता है. शुक्र वृश्चिक राशि वालों के संचित धन और संपत्ति के दूसरे भाव में गोचर करेगा. आपका खर्च काफी अधिक होगा और आप घर के लिए विलासिता के उत्पादों पर खर्च करेंगे. आपकी वाणी मधुर रहेगी, जो आपके आसपास के लोगों द्वारा सराही जाएगी. जो लोग ललित कला और संगीत में हैं, उनके लिए अनुकूल अवधि होगी, आपके विचारों की प्रशंसा होगी और आप उसी के कारण अच्छी प्रतिष्ठा अर्जित करेंगे.

money

धनु (Sagittarius): शुक्र धनु राशि के छठे घर और 11वें घर पर शासन करता है और इस गोचर की अवधि के दौरान आपके पहले घर में शुक्र का गोचर होगा. धनु राशि के जातकों के लिए समय बहुत अनुकूल नहीं कहा जा सकता है. इस अवधि में आपके शत्रु अत्यधिक प्रबल होंगे इसलिए आपको इस अवधि में सतर्क रहने की आवश्यकता है. पेशेवर मोर्चे पर व्यवसाय के मालिकों को अपने प्रतिस्पर्धियों से कड़ी प्रतिस्पर्धा और चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है. जो लोग कार्यरत हैं, उनके लिए बेहतर समय होगा, क्योंकि आपके पास अपने कार्यस्थल पर एक अच्छा माहौल होगा और आपके साथी आपके प्रोजेक्ट्स में आपके साथ समन्वय करेंगे.

मकर (Capricorn): शुक्र आपके पांचवें औ 10वें घर का स्वामी इस समय शुक्र ग्रह मकर राशि के जातकों के बारहवें घर में गोचर करेगा. इस समय, आप बहुत अधिक खर्च कर सकते हैं, जो आपके आर्थिक जीवन को प्रभावित कर सकता है, लेकिन आप अपने वित्त का प्रबंधन करने की पूरी कोशिश करेंगे. आपको इस समय सुस्ती आ सकती है. आपको सलाह दी जाती है कि आप अपनी दिनचर्या में व्यायाम को शामिल करें.

कुंभ (Aquarius): शुक्र कुंभ राशि वालों के लिए एक अनुकूल ग्रह है और यह कुंभ राशि के चौथे और नौवें घर पर शासन करता है. इस समय, शुक्र कुंभ राशि वालों के लिए ग्यारहवें घर में होगा. यह समय आपके लिए अनुकूल रहेगा. भाग्य आपके पक्ष में रहेगा. आपको अपनी मां से सहयोग मिलेगा. यह एक अच्छा समय है यदि आप जमीन या संपत्ति में निवेश करना चाहते हैं तो सफलता मिलेगी. आपको इस समय धार्मिक कार्यों की ओर झुकाव होगा.

मीन (Pisces): शुक्र मीन राशि के तीसरे और आठवें भाव का स्वामी है. इस समय, शुक्र मीन राशि के जातकों के दसवें घर में गोचर करेगा. आपको इस दौरान अपने बडे भाई-बहनों का पूरा सहयोग मिलेगा, और आपके माता-पिता के साथ आपके अच्छे संबंध होंगे. इस समय जमीन या संपत्ति में निवेश करने की योजना भी बना सकते हैं. यदि आप शिक्षक हैं, तो यह समय आपके लिए करियर के लिहाज से शुभ रहेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *