सुरह कौसर सुबह में 6 बार इस तरह पढ़ने का फायेदा, अगर आप जान लेंगे तो…

0
28

अस्सलाम वालेकुम मेरे प्यारे भाइयों बहनों आज हम आपको बताएंगे सूरह कौसर की फजीलत के बारे में। आज हम आपको बताएंगे कि यह सुरह नबी ए करीम सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम पर कब नाजिल हुई। इस की फजीलत क्या है और इसको पढ़ने से अल्लाह पाक इस दुनिया में क्या बरकत अता करते हैं और आखिरत में इसका क्या अज्रो सवाब देंगे. आज हम आपको बताएंगे सूरह कौसर के बारे मे जिस का तर्जुमा है कि ऐ पैगंबर यकीन जानो यह हमने तुम्हें कौसर अता कर दी, लिहाजा तुम अपने परवरदिगार की खुशनुदी के लिए नमाज पढ़ो और कुर्बानी करो यकीन जानो कि तुम्हारे दुश्मन का नाम लेने वाला भी कोई नहीं होगा अब.

मेरे दोस्तों जिस वक्त प्यारे नबी के बेटे हजरत कासिम का बचपन में इं’त’काल हुआ तो कुफ्फार ए मक्का खास कर के आस बिन वाईल आपको ‘अबतर” कहकर ताना देने लगा। दोस्तों अबतर का मतलब होता है जिस की नस्ल आगे ना चले या जिसकी औलाद ना हो उस वक्त नबी के इत्मीनान लिए अल्लाह ने यह सूरह उतारी.

google

और कहा कि आपको एक ऐसी नेमत के साथ नवाजा है जो किसी नबी या रसूल को नहीं अता किया गया यानी हौज़ ए कौसर ।आपके दीन पर चलने वाले और आप पर एतबार लाने वाले बेशुमार लोग होंगे और अबतर तो तुम्हारा दुश्मन है जिसका कोई नाम लेने वाला भी नहीं होगा और वैसा ही हुआ आप रसूल अल्लाह की ज़िंदगी का एक एक लम्हा किताबों में महफूज है और आप सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम की एक एक सुन्नत आज भी जिंदा है.

आप सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम का नाम लेने वाले और आप की सुन्नतों पर मर मिटने वाले बेशुमार लोग हैं और इंशा अल्लाह रहेंगे और आपके दुश्मन का तो कोई नाम भी नहीं जानता है और अगर कोई उसका जिक्र भी करता है तो बुराई के साथ ही करता है। कौसर का नफ़सी मायने बहुत ज्यादा भलाई से है और कौसर जन्नत की हौज का नाम भी है जो नबी ए करीम सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम के तसर्रुफ़ में दी जायेगी और आपकी उम्मत के लोग उससे सैराब होंगे.

google

एक सहाबी फरमाते हैं कि जब नबी करीम सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम मस्जिद में हमारे दरमियान थे उस वक्त आप हल्की सी नींद में या बेहोशी में थे फिर हंसते हुए आपने सर उठाया तो हमने उनसे पूछा कि या रसूल अल्लाह आपके हंसने की क्या वजह है फिर आप सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया कि मुझ पर इसी वक्त एक सूरत नाजिल हुई है फिर आपने बिस्मिल्लाह पढ़कर सूरह कौसर पढ़ा फिर फरमाया कि क्या तुम जानते हो कि कौसर क्या चीज है तब हम ने जवाब दिया कि अल्लाह और उसके रसूल बेहतर जानते होंगे तब आप रसूल अल्लाह ने फरमाया की यह जन्नत की एक हौज है जिसका अल्लाह ने मुझसे वादा किया है.

यह वह हॉज है जिस पर मेरी उम्मत कयामत के रोज पानी पीने आएगी पानी पीने के बर्तन सितारों की गिनती की तरह बहुत ज्यादा होंगे उस वक़्त कुछ लोगों को फरिश्ते वहां से हटा देंगे तब मैं कहूंगा या अल्लाह यह तो मेरी उम्मत है तब अल्लाह कहेगा की आपको नहीं पता कि आप के बाद इन्होंने दिन में क्या नई चीज जोड़ी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here