तबरेज़ अंसारी के परिवार के लिए दिल्ली सरकार ने किया बड़ा एलान, परिवार को मिलेंगे..

पिछले दिनों कई इस तरह की घ’टनाएँ हुई हैं जिसने समाज में बुराई और न’फरत को बढ़ावा देने का काम किया है. मोब लिंचिंग के ताज़ा मामले के बाद से ही सोशल मीडिया तथा तमाम जगह इसका विरोध शुरू हो गया है. हाल ही में झारखंड में हुई घट’ना से देश के लोगों में नाराज़गी है. परन्तु कुछ ऐसे लोग भी हैं जो इस घट’ना को जायज़ ठहराने से पीछे नहीं रह रहे हैं.

अब तबरेज़ अंसारी के परिवार को दिल्ली सरकार ने मदद की पेशकश की है. दिल्ली सरकार के मातहत दिल्ली वक्‍फ बोर्ड ने एलान किया है कि वो झारखंड में भगवा भी-ड़ की हिं’सा में मा’रे गए तबरेज की विधवा को 5 लाख रुपये नकद और बोर्ड में नौकरी देगा.दिल्ली वक्‍फ बोर्ड के चयरमैन अमनातुल्ला खान ने एलान किया है कि तबरेज की पत्नी को कानूनी मदद भी दी जाएगी.हालांकि इस एलान के बाद अमनातुल्ला खान और दिल्ली सरकार पर बीजेपी ने हम-ला बोला है.

बीजेपी के दिल्ली प्रदेश प्रवक्ता हरीश खुराना लेकिन इस क़दम को सही नहीं मानते. उन्होंने कहा कि ये एक राजनीतिक क़दम है. खुराना का कहना है कि ये मामला झाखण्ड का है,और झारखंड सरकार इस मामले में कदम उठा रही है.खुद पीएम ने संसद में इस मामले पर बोला है.अमनातुल्ला खान बताए उन्होंने दिल्ली के मुसलमानों के लिए क्या किया है.दिल्ली में विधानसभा चुनाव है इसलिए ये सब हो रहा है.

इस मामले में कांग्रेस ने भी दिल्ली वक्‍फ बोर्ड के चयरमैन को आड़े हाथों लिया है.दिल्ली वक्‍फ के पूर्व चयरमैन और कांग्रेस नेता चौधरी मतीन का कहना है कि मॉब लिंचिंग तो राजस्थान और हरियाणा में भी हुई,तब अमनातुल्ला खान कहाँ सो रहे थे.ये सब सियासत है जो कामयाब नहीं होगी.बेहतर होगा कि इस सिलसिले में दिल्ली वक्‍फ बोर्ड की जगह झारखंड वक्‍फ बोर्ड कदम उठाता.

दिल्ली वक्‍फ बोर्ड पहले भी दिल्ली से बाहर लोगों की मदद करता रहा है.कांग्रेस की सरकार के वक़्त जम्मू कश्मीर में आई आपदा के दौरान भी मदद दी गई थी.इसके अलावा दिल्ली के एक मदरसे में पढ़ने वाले छात्र अज़ीम की हत्या के मामले में भी दिल्ली वक्‍फ बोर्ड ने कदम उठाए थे,और अज़ीम के पिता को नौकरी देने में अलावा मुआवजा भी दिया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *