देहरादून की बिजनेस मॉम्स: 50 साल की उम्र में भी शुरू की कंपनी, हर साल कमाती हैं 2 करोड़ रुपए

‘जहाँ चाह, वहाँ राह’ यह कथन तो आपने सुना ही होगा। जब मज़बूत इच्छाशक्ति हो तो सफलता अवश्य मिलती है, चाहे आप बच्चे हों, जवान या फिर बूढ़े। उम्र का बंधन आपको बाँध नहीं सकता। कुछ ऐसी ही दो मम्मियाँ हैं निशा गुप्ता और गुड्डी थपलियाल, जिन्होंने अपनी उम्र को दरकिनार करते हुए, अपनी मेहनत से कामयाबी प्राप्त की। लगभग तीन वर्ष पूर्व इन्होंने अपने घर से ही एक बिजनेस की शुरूआत की थी और इनका ये बिजनेस 2 करोड़ रुपए तक का हो गया है।

कहते हैं इंसान को उम्मीद कभी नहीं छोड़ना चाहिए. बस दृढ़ विश्वास के साथ कर्म करते रहना चाहिए. सफलता देर-सवेर मिल ही जाती है. निशा गुप्ता और गुड्डी थपलियाल नाम की दो मम्मियां इसकी जीती-जागती उदाहरण हैं. करीब तीन साल पहले इन दोनों ने अपने घर से एक बिजनेस शुरू किया, जो कि अब 2 करोड़ रुपए तक का हो गया है.

देहरादून की गुड्डी थपलियाल और निशा, साथ मिलकर खोली कंपनी..अब करोड़ों में कमाई (Story of Guddi Thapliyal and Nisha Gupta of Dehradun)

निशा गुप्ता एक ग्रेजुएट हैं और एक उद्यमी परिवार से आती हैं. उन्होंने अपने घर की दुकान पर घरेलू सामान और कुछ उपहार बेचकर व्यापार के गुर सीखे थे. जबकि, गुड्डी थपलियाल ने केवल 5वीं कक्षा तक की पढ़ाई की है. यह बिज़नेस शुरू करने से पहले उनके पास किसी तरह का कोई अनुभव नहीं था. निशा के बच्चे, जोकि आईटी पेशेवर हैं, उन्होंने अपनी मां को ऑनलाइन बिजनेस का आईडिया दिया था. गुड्डी थपलियाल भी निशा के साथ काम करना चाहती थी. फिर क्या था, दोनों ने छोटी सी तैयारी के बाद 2017 में Geek Monkey नाम का एक ऑनलाइन गिफ्टिंग प्लेटफार्म को लांच कर दिया. मार्केट में पहले से ही ऑनलाइन गिफ्टिंग के ऐसे कई प्लेटफार्म में मौजूद थे. ऐसे में निशा और गुड्डी के सामने बड़ी चुनौती थी कि वो ऐसा क्या करें कि ग्राहक उनके पास ही आए.

इसके साथ ही दोनों चाहती थीं कि उनके उपहार अन्य वेब साइटों से अलग हों, इसलिए उन्होंने अपनी वेब साइट पर खास तरह के गिफ्ट्स को ही जगह दी. इसके लिए उन्होंने तरह-तरह के हस्तशिल्प कलाकारों को जोड़ा. मेहनत रंग लाई. आज निशा और गुड्डी एक सफल बिजनेसमैन हैं. रेडिफ डॉट कॉम के मुताबिक गुड्डी अपनी सफलता का श्रेय ग्राहकों के साथ व्यक्तिगत बातचीत को देती हैं.

हस्तशिल्प कला को बढ़ावा दिया

उन्होंने अपनी वेबसाइट पर ऐसे गिफ्ट आइटम रखे जो दूसरी वेबसाइट से अलग थे, कुछ विशेष गिफ्ट आइटम जैसे कि हैंड मेड गिफ्ट आइटम्स को अपनी वेबसाइट पर रखा, जिसके लिए उन्होंने विभिन्न हस्तशिल्प कलाकारों को अपने साथ जोड़ा। धीरे-धीरे इनका व्यवसाय बढ़ता गया और आज ये दोनों इस बिजनेस में बहुत कामयाब हो गई हैं।

देहरादून की बिजनेस मॉम्स: 50 साल की उम्र में भी शुरू की कंपनी, हर साल कमाती हैं 2 करोड़ रुपए

रेडिफ डॉट कॉम के अनुसार गुड्डी जी ने उनकी इस कामयाबी का श्रेय उनके द्वारा ग्राहकों के साथ की गई व्यक्तिगत बातचीत को दिया है। इनकी वेबसाइट पर अपने कस्टमर्स के लिए अलग-अलग क़ीमत और विभिन्न प्रकार के गिफ्ट हैं। वे 99 रुपए से लेकर 13, 000 रुपए तक के भी उपहार अपनी वेबसाइट पर बेचती हैं। इन दोनों सुपर बिजनेस मॉम्स ने सभी को सिखाया है कि सफलता उम्र की मोहताज नहीं होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *