अनजाने में आप भी तो नहीं कर रहे हैं ये गलतियां?

हर कोई चाहता है कि घर में हमेशा खुशी का माहौल हो, उसके लिए वह हर दिन प्रयास करता है। लेकिन घर का वास्तु सही नहीं है तो हमें पारिवारिक, आर्थिक और सामाजिक कष्टों का सामना करना पड़ता है। घर में गलत दिशा में सामान रखने की गलती कर हम लंबे समय तक उसके बुरे प्रभाव को झेलते रहते हैं। वास्तु के अनुरूप, घर को तोड़कर बनवाना बहुत कठीन हो जाता है। इसलिए हमारे ऋषि मुनियों ने घर में बिना तोड़-फोड़ के कुछ ऐसे आसान उपाय बताए हैं, जिनके करने से जीवन की सभी समस्याएं खत्म हो जाती हैं। आइए जानते हैं आखिर वो उपाय क्या हैं…

इस दिशा में रखें तिजोरी

धन रखने के लिए आप अगर तिजोरी या फिर अलमारी का प्रयोग करते हैं तो उसे आप तिजोरी या फिर अलमारी का मुख उत्तर दिशा की तरफ कर दें। उत्तर की दिशा में तिजोरी रहने से धन की वृद्धि होती है और अगर दक्षिण दिशा में है तो आपका धन बहुत खर्च होता है।

नल को सही करें

वास्तु विज्ञान के अनुसार, घर का नल हमेशा सही होना चाहिए। नल में से पानी टपकना बहुत खतरनाक होता है। यह आपको आर्थिक नुकसान करवाता है। पानी टपकते रहने का मतलब है कि आपका धन धीरे-धीरे खर्च हो रहा है। अगर आपके घर में ऐसा कोई नल है तो उसको तुरंत सही करवाएं।

ईशान कोण हमेशा ऐसा रखें

यदि ईशान क्षेत्र की उत्तरी या पूर्वी दीवार कटी हो तो उस कटे हुए भाग पर एक बड़ा शीशा लगाएं। इससे भवन का ईशान क्षेत्र प्रतीकात्मक रूप से बढ़ जाता है। इससे घर से नकारात्मक ऊर्जा दूर हो जाएगी और सकारात्मक ऊर्जा प्रवाह बना रहेगा। साथ ही आपके घर खुशियां भी लौट आएंगी।

नकारात्मक ऊर्जा को करें दूर

अगर आपके घर पर काफी दिनों से कबाड़ पड़ा हुआ है तो उसे जितना जल्दी हो निकाल दें। वास्तु के अनुसार, ये वस्तुएं काफी लंबे समय से एक जगह रहने पर नकारात्मक ऊर्जा को जन्म देती हैं। इससे वास्तु दोष होता है।

इस दिशा में रखें डाइनिंग टेबल

वास्तु विज्ञान के अनुसार, पश्चिम दिशा में बैठकर भोजन करने से संतोष, सुख व शांति मिलती है। हमेशा भोजन कक्ष पश्चिम में होना चाहिए। अगर ऐसा संभव नहीं है तो डाइनिंग टेबल को पश्चिम दिशा में लगा सकते हैं।

सीढ़ियां तो नहीं है ऐसी

घर के द्वार के सामने अगर सीढ़ियां हैं तो यह अशुभ है। इसके लिए आप एक पर्दा लगा दें। इससे आपके व्यवसाय में वृद्धि होगी, साथ ही करियर में तरक्की भी मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *