आमिर खान ने बेटी इरा संग डा’ली ऐसी फोटो कि लोगों ने कहा- मु’स्लिम हो…

हेलो दोस्तों आमिर खान ने सोशल मीडिया पर एक फोटो पोस्ट की इस फोटो में वह अपनी बेटी इरा के साथ खेल रहे थे। फोटो को पहली नजर में देखकर ही कई लोगों को लगा कि बहुत प्यारी तस्वीर है बेटियों को बढ़ावा देने वाले पिता बहुत कम होते हैं और ऐसे पिता को हर कोई पसंद करता है। मैंने भी सोचा कि इस प्यारी फोटो पर 1 कमेंट कर दूँ जब मैंने कमेंट बॉक्स को खोला तो लोगों के कमेंट देखकर मेरा दिमाग ब्लास्ट होने लगा। कई लोगों ने अपने गंदे दिमाग के कारण भद्दे भद्दे कमेंट किए थे।ऐसे लोग किसी भी फ़ोटो में, वीडियो में या खबर में गन्दगी खोज ही लेते हैं.

इस पिक में किसी ने आमिर की बेटी के कपड़ों पर कमेंट किया है, किसी ने उन्हें नॉन मुस्लिम बताया है ,किसी ने उन्हें रमजान की दुहाई दी है ,यहां तक कि किसी ने यह तक कह दिया है कि पॉर्न मूवी बना लो। ऐसे लोगों से मैं पूछना चाहता हूं कि कौन हो भाई तुम लोग और किस दुनिया में रह रहे हो? तुम्हारे घर में बुजुर्ग या बच्चे नहीं हैं? क्या तुम्हारे घर के बुजुर्ग यह नहीं कहते कि मां बाप के लिए बच्चे हमेशा बच्चे ही रहते हैं कभी बड़े नहीं होते हैं? इसीलिए कहा जाता है कि थोड़ा वक्त बुजुर्गों के साथ गुजारो ।अगर ऐसे लोग थोड़ा सा भी वक्त अपने घर के बड़ों के साथ गुजारते तो शायद उनके दिमाग में इतनी गंदगी नहीं आती.

google

कुछ लोगों ने ऐसा कहा है कि बाप बेटी का इस तरह से खेलना अशोभनीय है मुझे लगता है उन लोगों के घर में ऐसा कल्चर होगा कि बेटी बाप के सामने भी सर से दुपट्टा लेकर जाती होगी ।और अगर उनकी बेटी ऐसा नहीं करती होगी तो उनकी मां उनको कोने में ले जाकर दो थप्पड़ लगाती होंगी। ऐसे लोगों के घर में यह भी सिखाया जाता है कि भाइयों से निश्चित दूरी रखनी है ऐसे घरों में बेटियां सिर्फ तब बाप के गले लगती होंगी जब वह ससुराल जाती होगी रोते हुए, उससे पहले कभी खुशी से अपने पिता के गले नहीं लगी होंगी.

मैं कहता हूं कि बदनसीब है ऐसे बाप जिनकी बेटियां उनके गले नहीं लगती, जिनकी बेटियां उन्हें नीचे गिरा कर उनके साथ खेलती नहीं। ऐसे लोग गंदी नियत और अपने गंदे कल्चर को लेकर 1 दिन दुनिया से दफा हो जाते हैं और उनकी बेटियों को पूरी जिंदगी यह अफसोस होता है कि जब उनके पिता जिंदा थे तो वह उनके साथ खेल नहीं सकी ना ही एक बार गले लग सकी.

google

दुनिया की कोई भी बेटी हो वह कितनी भी बड़ी हो जाए या बूढ़ी हो जाए लेकिन अपने पिता के साथ उसके खेलने की हसरत कभी खत्म नहीं होती। संस्कृति और धर्म के ठेकेदारों को एक बार बेटी बनकर सोचना चाहिए तब शायद उनकी समझ में यह बात आएगी और उन्हें इस तस्वीर में कोई गंदगी नजर नहीं आयगी.

हम एक ऐसे देश में रह रहे हैं जहां कन्या भ्रूण हत्या रोकने के लिए कानून बनाना पड़ रहा है ।हर 5 मिनट पर टीवी पर ऐड चलाना पड़ता है कि बेटियों को मत मारो, उसे पढ़ाओ लिखाओ अपने पैरों पर खड़ा करो, उसकी पढ़ाई के लिए पैसे बचाने की बजाय उसकी पढ़ाई और खेलकूद पर पैसे लगाओ.

google

जिस जगह बेटियों को केवल रोटी बनाने के लिए ही पैदा किया जाता है उस जगह बेटियों का पिता के साथ इस तरह खेलना, अपने सपने पूरे करने की आजादी देना असम्भव है। ऐसे लोग कभी नहीं समझेंगे और न ही सुधरेंगे. सिर्फ बेटी बनकर देखो उस वक्त तुम्हें एक पिता का बेटी के साथ खेलना अश्लील नहीं लगेगा.

One thought on “आमिर खान ने बेटी इरा संग डा’ली ऐसी फोटो कि लोगों ने कहा- मु’स्लिम हो…”

  1. Arey jahil insan beti k sath gale milne mei kuch galat nahi hai but itne ghatiya kapdo mei hone k sath bhi beti k sath khade hokar photo khinchwana islam ka mazaq udana hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *