ये तस्वीर है भारत आए अफगान सिखों की, जो अफ़ग़ानिस्तान से सब कुछ छोड़ कर भारत आ गए. लेकिन, गुरु ग्रंथ साहिब को किसी कीमत पर नहीं छोड़ा.

अफ़ग़ानिस्तान इस समय मुश्किल समय से जूझ रहा है. मजबूरी में अपना देश छोड़ कर जा रहे लोगों के भावुक कर देने वाले वीडियो भी सामने आए. वतन छोड़ने की एक मजबूरी जान बचाने की भी है. अफ़ग़ानिस्तान के कई लोग भारत और बाकी देशों में पनाह लेने आ रहे हैं.

इसी दौरान एक ऐसी तस्वीर सामने आई जिसे लोग लम्बे समय तक याद रखेंगे. ये तस्वीर है भारत आए अफगान सिखों की, जो अफ़ग़ानिस्तान से सब कुछ छोड़ कर भारत आ गए. लेकिन, गुरु ग्रंथ साहिब को किसी कीमत पर नहीं छोड़ा. सिख समुदाय के लोगों का एक वीडियो भी सामने आया है, जिसमें वे फ्लाइट के अंदर ही जो बोले सो निहाल और वाहे गुरुजी का खालसा-वाहे गुरुजी की फतह बोलते हुए नजर आ रहे हैं। ये वीडियो विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने भी शेयर किया है।

इन सिखों ने अफगानिस्तान के अलग-अलग गुरुद्वारों से गुरु ग्रंथ साहिब को लिया और अपने साथ भारत ले आए. अफ़ग़ानिस्तान छोड़ने से पहले काबुल एयरपोर्ट पर किसी ने इन तीन सिखों की तस्वीर ले ली. उस समय उन्होंने गुरु ग्रंथ साहिब को सिर पर रखा हुआ था. इनकी ये तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई.

सोमवार 23 अगस्त को भारत ने तीन फ्लाइट्स के जरिए 146 लोगों को अफगानिस्तान से रेस्क्यू किया. इन लोगों में ये सिख भी शामिल हैं. जिस प्लेन से इन्हें भारत लाया गया, उसमें 46 लोग सवार हुए थे. इनमें अधिकतर हिंदू और सिख थे.

अफ़ग़ानिस्तान छोड़ कर जाने वालों में कई अफ़ग़ान सिख भी हैं. यहां के गुरुद्वारों में सन्नाटा पसरा हुआ. आने वाला समय इस देश की नियति तय करेगा.

अफगानिस्तान में तालिबानी कब्जे के बीच काबुल से भारतीयों को निकालने का सिलसिला जारी है। आज 78 लोगों को लेकर एयर इंडिया का AI-1956 विमान तजाकिस्तान की राजधानी दुशाम्बे से उड़ान भर चुका है। इनमें 25 भारतीय हैं। इस विमान के 11 बजे भारत पहुंचने की उम्मीद है। इस विमान में आ रहे लोगों में वे तीन सिख भी शामिल हैं जो गुरु ग्रंथ साहिब को सिर पर रख कर ला रहे हैं। इन लोगों को पहले एयरफोर्स के विमान से काबुल से दुशाम्बे पहुंचाया गया था, फिर बीती रात वहां से एयर इंडिया के विमान से दिल्ली के लिए रवाना किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *