Uncategorized

पति-पत्नी के रिश्तों में तनाव और कलक का कारण बनती हैं ये आदतें, जानें चाणक्य नीति

Chanakya Niti In Hindi: चाणक्य नीति के अनुसार पति और पत्नी का रिश्ता सबसे मजबूत रिश्तों में से एक है. लेकिन ये कमजोर भी पड़ जाता है, जब इस रिश्ते में आ जाती हैं, ये बातें-

September 2021 Calendar: सितंबर का महीना ग्रहों की दृष्टि से महत्वपूर्ण है. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस महीने कई राशियों में राजयोग जैसी स्थिति देखने को मिल रही है. इस महीने ग्रहों का राशि परिवर्तन भी विशेष है. जो मेष से मीन राशि तक के लोगों को प्रभावित कर रहा है.

कन्या राशि में बुध बना रहे राजयोग

वर्तमान समय में बुध ग्रह कन्या राशि में गोचर कर रहा है. ज्योतिष शास्त्र में बुध ग्रह को ग्रहों का राजकुमार कहा गया है. बुध को मिथनु और कन्या राशि का स्वामी माना गया है. कन्या राशि में बुध का गोचर राजयोग बनाता है. जो धन और जॉब में सफलता प्रदान करता है. बुध को शुभ बनाने के लिए भगवान गणेश की पूजा करनी चाहिए.

तुला राशि में शुक्र, बना रहे हैं ‘मालव्य’ राजयोग

06 सितंबर 2021 को शुक्र ग्रह का तुला राशि में गोचर होने जा रहा है. यानि शुक्र का राशि परिवर्तन अब तुला राशि में होगा. ज्योतिष शास्त्र में शुक्र को तुला राशि का स्वामी माना गया है. शुक्र भोग-विलास, फैशन, सुख-समृद्धि, विदेश, मनोरंजन, बाजार आदि के कारक हैं. तुला राशि में शुक्र का आना अत्यंत शुभ माना जाता है, क्योंकि तुला राशि उनकी अपनी राशि है. जब शुक्र तुला राशि में आते हैं तो मालव्य राजयोग बनता है. जब यह योग बनता है तो व्यक्ति को धन, मान-सम्मान, जॉब में प्रगति, व्यापार में सफलता और दांपत्य जीवन में खुशहाली आती है.

मकर राशि में शनि वक्री होकर बना रहे राजयोग

शनि देव मकर राशि में वर्तमान समय में वक्री होकर गोचर कर रहे हैं. सितंबर में गुरु भी मकर राशि में आ जाएंगे. मकर राशि के स्वामी शनि हैं. लेकिन गुरु की यह नीच राशि मानी गई है. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जब गुरु मकर राशि में आते हैं तो नीच राजयोग का निर्माण करते हैं. गुरु एक मात्र ऐसे ग्रह हैं जो अधिकतर शुभ फल ही प्रदान करते हैं. मकर राशि पर शनि की साढ़ेसाती भी चल रही है. 04 सितंबर 2021, शनिवार को शनि देव की पूजा का विशेष संयोग भी बन रहा है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button