राजनीति

विधानसभा चुनाव से पहले ओवैसी ने मु’स्लि’म वो’टरों को दी ये न’सीह’त, कहा खु’दा के लिए…

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए सभी राजनीतिक दल जमकर चुनाव प्रचार में लगे हुए हैं। इसी बीच ऑल इंडिया म’जलि’स ए इत्ते’हादु’ल मु’स्लि’मीन के अध्यक्ष और लोकसभा सांसद असदुद्दीन ओवैसी महाराष्ट्र में लगातार चुनावी रैलियां कर रहे हैं। बुधवार को असदुद्दीन ओवैसी ने महाराष्ट्र के नांदेड़ में एक चुनावी सभा को संबोधित किया।

इस दौरान उन्होंने भारतीय जनता पार्टी पर जमकर नि’शा’ने साधे। जनसभा में ओवैसी ने साल 2014 और साल 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी को वोट देने वाले 6 फ़ीसदी मु’स’लमा’नों को ”क्रिकेट का छ’क्का” बताया है और बीजेपी के आईटी सेल प्रमुख अमित मालवीय पर भी कई सवाल खड़े किए।

इसी दौरान उन्होंने मु’स्लि’म वोटरों से अपील करते हुए कहा कि अब खु’दा के लिए से’कु’लरि’ज्म को भूल जाओ और ए’कजु’ट होने का काम करो। ओवैसी का कहना है कि अब से’कुल’रि’ज्म हमारी जि’म्मे’दा’री नहीं है यह अब कांग्रेस की जि’म्मे’दारी है हमने 70 साल तक काफी ह’क अ’दा कर दिया है।

इस मामले में बीजेपी आईटी सेल के हेड अमित मालवीय ने सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर ट्वीट कर अ’सदु’द्दीन ओ’वै’सी पर नि’शा’ना साधा है
अमित मालवीय ने ट्वीट कर लिखा कि ओवैसी चाहते हैं कि मु’सल’मान सिर्फ मु’स्लि’म ने’ता’ओं को इसलिए चुनें ताकि वो मु’स्लि’म वो’टों
का इस्तेमाल या’कू’ब मेन’न जैसे लोगों को बचाने में कर सकें, जिनपर सी’रि’यल ब’म ब्ला’स्ट में बे’गु’ना’हों की जा’न लेने का आ’रो’प है।

दरअसल, अमित मालवीय ने इस ट्वीट में नांदेड़ में दिए असदुद्दीन ओवैसी के भाष’ण का वीडियो भी ट्वीट किया। इस भाषण में ओवै’सी भारतीय जनता पार्टी पर सवा’ल खड़े कर रहे हैं और 2014-2019 में बीजेपी को मिले म’स्लि’म वोटों का आंकलन कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर अमित मालवीय द्वारा शेयर की गई ओवै’सी की वीडियो में वह यह कहते हुए नजर आ रहे हैं की एक रि’पोर्ट में यह बताया गया है कि साल 2014 में 37303 हिं’दू भाई बहनों ने मो’दी को वोट दिया था जो कि साल 2019 में बढ़कर 43 फ़ीसदी हो गया है। आप उससे अंदाजा लगा सकते हैं कि किसके वोट पड़ रहे हैं। साल 2014 और साल 2019 में ही फीस दी मु’स’लमा’नों ने मोदी को वोट दिया है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button