कांग्रेस में बड़ी भूमिका चाहते हैं प्रशांत किशोर! पार्टी में बड़े बदलाव के लिए अध्यक्ष…

विशेष सलाहकार समिति में प्रशांत किशोर के अलावा चुनिंदा लोग ही शामिल किए जाएंगे। चर्चा है कि पार्टी के अंदर जल्द ही आमूलचूल संगठनात्मक परिवर्तन हो सकता है। इस पर एक-दो दिन में स्थितियां साफ हो जाएंगी।

चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर और कांग्रेस पार्टी के बीच संबंध और प्रगाढ़ होने की दिशा में जल्द ही कुछ फैसला लिया जाएगा। इस बीच ऐसी संभावना जताई जा रही है कि प्रशांत किशोर पार्टी में बड़ी भूमिका चाहते हैं। इसको लेकर पार्टी में उच्चस्तरीय विचार-विमर्श का दौर चल रहा है।

बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के लिए रणनीति बनाकर चुनाव में जबरदस्त सफलता दिलाने के बाद कांग्रेस पार्टी उनको अपने साथ लेना चाहती है। इसको लेकर उनकी राहुल गांधी और अन्य नेताओं के साथ कई बार बैठक भी हो चुकी है। राहुल गांधी ने संकेत दिया है कि प्रशांत किशोर की भूमिका को लेकर जल्द फैसला किया जाएगा। फिलहाल इस बारे में पार्टी के अंदर मंथन हो रहा है कि उनको लेने से कितना नफा-नुकसान होगा।

sonia gandhi, sonia gandhi photo
sonia gandhi photo

मीडिया सूत्रों के मुताबिक प्रशांत किशोर ने पार्टी को सलाह दी है कि अध्यक्ष सोनिया गांधी के अधीन एक विशेष सलाहकार समिति बनाई जानी चाहिए। यह समिति चुनावी गठबंधन से लेकर अभियान रणनीति तक सभी राजनीतिक मुद्दों पर फैसला लेने के लिए जिम्मेदार होगी। इन फैसलों को सभी जमीनी तैयारी करने के बाद पार्टी की सर्वोच्च नीति निर्धारक तंत्र यानी कांग्रेस कार्य समिति के पास भेजा जाएगा।

वहां इस पर अंतिम रूप से विचार-विमर्श करने के बाद फैसला लिया जाएगा। विशेष सलाहकार समिति में प्रशांत किशोर के अलावा चुनिंदा लोग ही शामिल किए जाएंगे। चर्चा है कि पार्टी के अंदर जल्द ही आमूलचूल संगठनात्मक परिवर्तन हो सकता है। इस पर एक-दो दिन में स्थितियां साफ हो जाएंगी।

चुनावी रणनीतिकार के रूप में बंगाल विधान सभा चुनाव में भाजपा के आक्रामक अभियान को रोकने और ममता बनर्जी को तीसरी बार सत्ता दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले प्रशांत किशोर पिछले कुछ दिनों से कांग्रेस पार्टी के संपर्क में हैं। उन्होंने पार्टी में शामिल होने की इच्छा भी जताई है। इसको लेकर पार्टी के अंदर विचार जारी है। अब वह कांग्रेस पार्टी के लिए कितने फायदेमंद होंगे, यह तो बाद में पता चलेगा, लेकिन अगले साल के शुरू में यूपी, पंजाब, उत्तराखंड समेत कई राज्यों में चुनाव को देखते हुए उनको पार्टी में लेने की संभावना बढ़ती जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *