जज़्बे को सलाम : अनाथ बेटी ने कभी बांधी थी राखी, दरोगा ने कुछ इस तरह निभाया राखी का फर्ज…!

पुलिस जनता की रक्षा और

सेवा के लिए होती है. लेकिन लाखों लोगों के मन में यह धारणा बन चुकी है कि पुलिस अपनी वर्दी का गलत इस्तेमाल करती है. ऐसी अनेकों खबरें सुनाई देती है जिसमें पता चलता है कि पुलिस जरूरतमंद लोगों की मजबूरी का फायदा उठा कर उन्हें मानसिक और शारीरिक रूप से पीड़ित करती है.

अनेकों बार पुलिस को रिश्वत लेते पकड़ा भी गया है. इसलिए आम आदमी पुलिस के पास जाने से बचता है. उनका मानना होता है कि पुलिस के पास जाने से उनकी परेशानी का कोई समाधान नहीं निकलेगा. और अपने ऊपर हो रहे अत्याचारों को सहन करते हैं. लेकिन ऐसा नहीं है लोगों ने पुलिस के खिलाफ अपने मन में गलत धारणा बना रखी है.

सभी पुलिसकर्मी एक समान

नहीं होते. सबको हमारे भारत की न्याय व्यवस्था पर विश्वास रखने की जरूरत है. आज हम आपको इस आर्टिकल के जरिए एक ऐसे पुलिसकर्मी के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने अपने मुंह बोली बहन की शादी बहुत धूमधाम तरीके से की.

Read More : अब 5 और 10 रुपये का वैष्णो माता वाला सिक्का आपको बनाएगा मालामाल, मिलेंगे 10 लाख रुपये, जानें कैसे?

हनुमंत तिवारी भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के लखीमपुर कस्बे में अपनी सेवाएं देते हैं. हनुमंत तिवारी देश की जनता की रक्षा करने के साथ जरूरतमंद लोगों की मदद भी करते हैं. कुछ साल पहले पुलिसकर्मी हनुमंत तिवारी के कस्बे में निवास करने वाले विचल त्रिवेदी की मृत्यु हो गई.

स्वर्गवासी विचल त्रिवेदी की

तीन बेटियां और एक बेटा है. उनका बेटा बहुत छोटा है. जो परिवार की जिम्मेदारी उठाने में असमर्थ था. त्रिवेदी का परिवार आर्थिक रूप से बिल्कुल समृद्ध नहीं है. त्रिवेदी की मृत्यु के बाद उनका परिवार पूरी तरह से बिखर चुका था.

इस बिखरते हुए परिवार को पुलिसकर्मी हनुमंत तिवारी ने संभाला. हनुमंत ने त्रिवेदी की परिवार की आर्थिक रूप से बहुत मदद की. हनुमंत लाल तिवारी ने त्रिवेदी की बेटी अनीता को अपनी बहन माना और राखी बनवाई. मैंने अपने भाई के सभी फर्ज निभाएं.

कुछ समय पहले ही उन्होंने अनीता की शादी बड़े ही धूमधाम से कराई. हनुमंत लाल तिवारी ने अनीता की शादी में एक बड़े भाई की तरह सभी जिम्मेदारियां निभाई. अनीता की शादी के बाद बहुत सुर्खियों में नजर आए. सभी जगह उनकी चर्चा होने लगी. हनुमंत लाल तिवारी सभी पुलिसकर्मियों के लिए एक मिसाल बन गए.

जिन्होंने अपने देश की सेवा के साथ जरूरतमंद लोगों की मदद की. अनीता की शादी का पूरा खर्चा पुलिसकर्मी हनुमंत ने उठाया. और एक बड़े भाई की तरह अपनी बहन शादी में अतिथियों का स्वागत किया. लेकिन इस बात को उनके चेहरे पर बिल्कुल भी घमंड नहीं दिखाई देता है. हनुमंत तिवारी थाना प्रभारी बनने के बाद भी उन्होंने अपनी सारी जिम्मेदारी बखूबी से निभाई.

Read More :अगर आपके पास भी है ये पुराना नोट, तो हो सकते हैं मालामाल, जानिए कैसे?

हनुमंत तिवारी हमेशा जरूरतमंद लोगों की मदद करते हैं और इसी वजह से वह सुर्खियों पर भी बने रहते हैं. जब उन्होंने त्रिवेदी परिवार की बेटी अनीता की शादी करवाई थी तो काफी लंबे समय तक वे सुर्खियों में बने रहे. प्रत्येक सोशल मीडिया पर उनकी तारीफें की जा रही थी. और आज भी हनुमंत तिवारी लोगों की मदद करने के लिए तत्पर रहते हैं. कुछ समय पहले उन्होंने जंगल के किनारे भटकती हुई एक वृद्ध महिला को उनके परिवार से मिलवाया.

जब पहली बार हनुमंत तिवारी

में उस वृद्ध महिला से मिले तो उसकी हालत बहुत ही खराब थी. सबसे पहले उन्होंने उस महिला का इलाज करवाया. उस वृद्ध महिला से उसके परिवार के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया. मझगई चौकी के इंचार्ज हनुमंत तिवारी उस महिला के परिवार को ढूंढने का प्रयास शुरू किया.

जब तक हनुमंत लाल तिवारी ने उस महिला के परिवार को नहीं ढूंढा तब तक उसने उस वृद्ध महिला को अपने मां के सम्मान मानते हुए उसकी सेवा की. आज भी हनुमंत लाल तिवारी जरूरतमंद लोगों की मदद करने के लिए तत्पर रहते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *